JivikaToday

Blog Archive

Search This Blog

Recent PostAll the recent news you need to know

मध्य प्रदेश के प्रशासनिक अधिकारियों ने अपनी हड़ताल की खत्म




भोपालः छिंदवाड़ा SDM से बदसलूकी के बाद मध्य प्रदेश का अधिकारी वर्ग दो दिवसीय हड़ताल पर चला गया था. जिसके दूसरे दिन आज यानि मंगलवार को ही सीएम शिवराज ने अधिकारियों से मुलाकात कर हड़ताल को खत्म करवा दिया है. सीएम शिवराज सिंह चौहान ने अधिकारियों से मुलाकात के दौरान सुरक्षा का भी आश्वासन दिया है.दरअसल, बीते माह प्रशासनिक सेवा के दो अधिकारियों के साथ हुई बदसलूकी की घटनाओं से आहत प्रशासनिक अधिकारी हड़ताल पर चले गए थे.

SDM से बदसलुकी के बाद बीते शनिवार से ही आरआई, तहसीलदार, पटवारी और अन्य प्रशासनिक वर्ग हड़ताल पर चला गया था. इस दौरान तहसील कार्यालय से जुड़े सभी कामकाज को ठप कर दिया गया था. उन्होंने मांग की थी कि उनके वाहनों में बत्ती और सुरक्षा गार्ड की सुविधा प्रदान की जाए. जिसके बाद आज मंगलवार सुबह 11 बजे सीएम ने अधिकारियों से मुलाकात कर सहमति के साथ हड़ताल खत्म करवाया.

प्रशासनिक संघ के अध्यक्ष नरेंद्र ठाकुर ने कहा था कि 18 सितंबर को छिंदवाड़ा जिले के चौरई एसडीएम सीपी पटेल के मुंह पर कालिख पोती गई थी. जबकि बीते एक सितंबर को सीधी जिले के कुसमी के नायब तहसीलदार पर भी हमला किया गया था. हमले के बाद से ही वे इंदौर के वेदांता अस्पताल में भर्ती में हैं.

छिंदवाड़ा SDM से बदसलूकी करने वालें बंटी पटेल को तुरंत गिरफ्तार कर लिया गया था. जिसके बाद छिंदवाड़ा कलेक्टर ने कांग्रेस नेता के पांच वर्षों के अपराध को देखते हुए राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (NSA) के तहत कार्रवाई के आदेश दिए थे. प्रदेश के विभिन्न जिलों में तहसीलदार और नायब तहसीलदार पर हुए हमलों के विरोध में ही अधिकारियों ने काम का बहिष्कार कर दिया था.

मध्य प्रदेश होईकोर्ट ने सरकार को भेजा नोटिस, जानिए क्या है मामला, पढ़िए रिपोर्ट…



ग्वालियर: मध्य प्रदेश होईकोर्ट की ग्वालियर बेंच ने अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) के छात्रों को एससी-एसटी (ST-SC) के छात्रों की तुलना में कम स्कॉलरशिप देने पर शासन और जिम्मेदार अधिकारियों को नोटिस भेजा है. साथ ही होईकोर्ट ने शासन से इस संबंध में 22 अक्टूबर तक उचित तर्कों के साथ जवाब भी मांगा है. इसके अलावा हाईकोर्ट ने सरकारी और निजी कॉलेजों के छात्रों से स्कॉलरशिप को लेकर हो रहे भेदभाव पर भी जवाब मांगा है.


जस्टिस संजय यादव और जस्टिस बीके श्रीवास्तव की तरफ से यह नोटिस छात्र प्रांशु यादव की तरफ से जारी याचिका पर सुनवाई के बाद भेजा गया है. मामले की सुनवाई के दौरान अपना पक्ष रखते हुए अधिवक्ता वृंदावन तिवारी ने कहा कि राज्य के सरकारी स्कूलों में ओबीसी, एससी और एसटी वर्ग के छात्रों को एक सामान स्कॉलरशिप दी जा रही है. लेकिन निजी स्कूलों में ऐसा नहीं किया जा रहा है. जो कि संविधान के समता के अधिकार का हनन है.

मामले में अपना पक्ष रखते हुए अधिवक्ता ने कोर्ट से आग्रह किया कि निजी स्कूलों में ओबीसी वर्ग के छात्रों को एससी और एसटी वर्ग के छात्रों के बराबर स्कॉलरशिप मिल सके, इसके लिए संबंधित विभाग को कार्रवाई करने के आदेश मिले. प्रारम्भिक सुनवाई के बाद कोर्ट ने राज्य सरकार के उच्च शिक्षा विभाग सचिव, आयुक्त, पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण विभाग सचिव व उप संचालक, सतना कलेक्टर और रीवा कमिश्नर को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है.

मध्य प्रदेश के किसानों को अब मिलेगी 10 हजार की सम्मान निधि



भोपाल। मध्य प्रदेश में 28 सीटों पर उपचुनाव होने हैं, ऐसे में सभी पार्टियों द्वारा इन सीटों पर जीत हासिल करने के लिए तैयारियां जोरो-शोरों पर हैं। इसी बीच, सूबे के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने किसानों को उपचुनाव से पहले बड़ी सौगात दी है। सीएम चौहान ने एलान किया है कि अब किसानों को हर साल 10 हजार रुपये की मदद दी जाएगी।


सीएम चौहान ने कहा कि मुख्यमंत्री कल्याण योजना के तहत किसानों को दो किस्तों में चार हजार रुपये दिए जाएंगे। इसके अलावा, प्रधानमंत्री कल्याण स्कीम के तहत छह हजार रुपये भी किसानों को सौंपे जाएंगे।

मध्यप्रदेश में इस साल खाली सीटों पर उपचुनाव होने वाले हैं। ऐसे में भाजपा को अपनी सत्ता बरकरार रखने के लिए कम से कम नौ सीटों पर कब्जा जमाना होगा। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने हाल ही में कहा था कि राज्य में होने वाले उपचुनाव प्रदेश के भविष्य को तय करने वाला चुनाव है।

माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री की तरफ से यह सौगात उपचुनाव को ध्यान में रखकर दिया गया है, ताकि सत्ता पक्ष को अपनी कुर्सी बचाने के लिए जीत हासिल हो सके। किसानों को इससे पहले मुख्यमंत्री की तरफ से कर्जमाफी की सौगात भी दी गई थी। हालांकि, इसमें कई किसानों का एक रुपया तो किसी का पांच रुपया माफ किया गया, इसको लेकर विपक्ष ने सरकार को घेरा था।

वहीं, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का खुद को ‘टेंपरेरी’ (अस्थायी) मुख्यमंत्री बताने वाला बयान राजनीतिक गलियारों में चर्चा का विषय बना हुआ है। दरअसल, मुख्यमंत्री ने रविवार को मंदसौर जिले के सुवासरा विधानसभा में थे। उन्होंने यहां विकास कार्यों का लोकापर्ण किया। इस दौरान शिवराज ने कहा कि अभी टेंपरेरी मुख्यमंत्री हूं, उपचुनाव में जीत नहीं हासिल हुई तो टेंपरेरी मुख्यमंत्री ही रह जाऊंगा, यहां से जीत मिलने के बाद स्थायी मुख्यमंत्री हो जाऊंगा।

गरिमा परिहार ने देवी पार्वती की भूमिका के साथ पहली बार पौराणिक शैली में किया काम



मुंबई. टेलीविजन की नामचीन अभिनेत्री गरिमा परिहार एण्डटीवी के शो संतोषी मां सुनाएं व्रत कथाएं में पार्वती की भूमिका के साथ अपने दर्शकों का दिल जीतने के लिए बिलकुल तैयार हैं। इस शो के माध्यम से गरिमा पौराणिक शैली में अपना पदार्पण कर रही हैं। देवी पार्वती का किरदार निभाने को लेकर अपनी खुशी का इजहार करते हुये गरिमा परिहार ने कहा कि वह इस तरह के एक गंभीर रोल के साथ इस नई शैली के विषय में और अधिक जानने के लिए उत्सुक हैं। उन्होंने हमेशा से माता पार्वती पर विश्वास किया है और ऑन.स्क्रीन देवी पार्वती की भूमिका निभाने का अवसर मिलना किसी आशीर्वाद से कम नहीं है।


उन्होंने आगे कहा भाषा पर पकड़ मजबूत करने के लिए मैं हमेशा भक्ति कथाओं और उनके अध्याय को पढ़ती और सुनती रहती हूं। इससे मेरे अंदर शांति का भाव भी बना रहता है। एक मजबूत पौराणिक किरदार को निभाना चुनौतीपूर्ण तो है लेकिन इसी के साथ संतोषजनक भी है।ष्ष् रश्मि शर्मा टेलीफिल्म्स द्वारा निर्मित संतोषी मां सुनाएं व्रत कथा भक्त और भगवान के बीच के विशुद्ध संबंध की कहानी को दर्शाता है।

कोविड-19 के 200 टीकों ने प्रीक्लिनिकल परीक्षण चरण में प्रवेश किया



न्यूयॉर्क.  विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक ट्रेडोस अधनोम घेब्रेयसस ने 21 सितंबर को जिनेवा में आयोजित कोविड-19 से जुड़ी नियमित न्यूज ब्रीफिंग में कहा कि वर्तमान में विश्व में लगभग दो सौ कोविड-19 टीकों ने नैदानिक या प्रीक्लिनिकल परीक्षण चरण में प्रवेश किया है। हमारा लक्ष्य यह है कि वर्ष 2021 के अंत तक 2 अरब टीके तैयार होंगे। लेकिन, कोविड-19 का मुकाबला करने वाले उपकरण प्राप्त करने के गतिवर्धक नामक अंतर्राष्ट्रीय सहयोग पहल के सामने 35 अरब अमेरिकी डॉलर का अभाव है। ट्रेडोस ने उसी दिन आयोजित न्यूज ब्रीफिंग में कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने विश्व वैक्सीन व टीकाकरण गठबंधन और महामारी निवारण नवाचार गठबंधन के साथ कोविड-19 टीके की योजना बनायी। ताकि सभी देश एक साथ कोविड-19 टीका प्राप्त कर सकें।


उनके अनुसार अब तक लगभग दो सौ कोविड-19 टीके नैदानिक या प्रीक्लिनिकल परीक्षण चरण में प्रवेश कर चुके हैं। टीके के अध्ययन से हमें पता लगा है कि कुछ असफल होंगे, और कुछ सफल होंगे। हम इस बात को सुनिश्चित नहीं कर सकते कि वर्तमान के अध्ययन में हर टीके का प्रयोग किया जा सकेगा। लेकिन उम्मीदवार टीकों की संख्या ज्यादा है, तो कारगर टीका प्राप्त करने के मौके ज्यादा होंगे।

अमेरिका में कोरोना से मौतों का आंकड़ा 2 लाख के पार



न्यूयॉर्क। अमेरिका में कोविड-19 के संक्रमण से मरने वालों का आंकड़ा मंगलवार को 200,000 को पार कर गया। यह आंकड़ा जॉन्स हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के सीएसएसई सेंटर ने जारी किया।


समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, संयुक्त राष्ट्र में कोरोना से अब तक 200,005 लोगों की मौत हो चुकी है।

सबसे ज्यादा न्यूयॉर्क में 33,092 और न्यूजर्सी में 16,069 मौतें हुई हैं। टेक्सास, कैलिफोर्निया और फ्लोरिडा में मौतों का आंकड़ा 13,000 को पार कर गया है।

शेयर बाजार पर कोरोना का साया, लगातार चौथे सत्र में टूटे सेंसेक्स, निफ्टी



मुंबई. घरेलू शेयर बाजार मंगलवार को लगातार चौथे सत्र में कोरोना के कहर के साये में गिरावट के साथ बंद हुआ। कमजोर वैश्विक संकेतों से बाजार में बिकवाली का दबाव बना रहा जिससे सेंसेक्स 300 टूटकर 37,734 पर बंद हुआ और निफ्टी करीब 97 अंक फिसल 11,154 के करीब रहा।



कोरोना के कहर का साया घरेलू और वैश्विक बाजार पर लगातार बना हुआ है, जिसके चलते बिकवाली का दबाव बना रहा। बीते सत्र के मुकाबले सेंसेक्स 300.06अंकों यानी 0.79 फीसदी की गिरावट के साथ 37,734.08 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी बीते सत्र से 96.90 अंकों यानी यानी 0.86 फीसदी की गिरावट के साथ 11,153.65 पर ठहरा।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के 30 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स पिछले सत्र के मुकाबले 166.57 अंकों की तेजी के साथ 38,200.71 पर खुला और 38,209.97 तक चढ़ा, लेकिन बाद में बिकवाली का दबाव बना रहा जिससे दिनभर के कारोबार के दौरान सेंसेक्स 37,531.14 तक लुढ़का।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के 50 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक निफ्टी बीते सत्र से 51.20 अंकों की बढ़त के साथ 11,301.75 पर खुला और 11,302.20 तक चढ़ा, लेकिन उसके बाद बिकवाली के दबाव में दिनभर के कारोबार के दौरान 11,084.65 तक लुढ़का।

बीएसई मिडकैप सूचकांक पिछले सत्र से 247.18 अंक यानी 1.70 फीसदी लुढ़ककर 14,284.41 पर बंद हुआ। वहीं, बीएसई स्मॉलकैप सूचकांक बीते सत्र से 238.08 अंकों यानी 1.61 फीसदी की गिरावट के साथ 14,509.26 पर ठहरा।

सेंसेक्स के 30 शेयरों में से आठ शेयर बढ़त के साथ बंद हुए, जबकि 22 शेयरों में गिरावट रही। सेंसेक्स के सबसे ज्यादा बढ़त वाले पांच शेयरों एचसीएल टेक (2.43 फीसदी), टीसीएस (2.39 फीसदी), टेक महिंद्रा (1.70 फीसदी), सन फार्मा (1.35 फीसदी),और आईसीआईसीआई बैंक (1.04 फीसदी) शामिल रहे।

सेंसेक्स के सबसे ज्यादा गिरावट वाले पांच शेयरों में मारुति (2.83 फीसदी), एलएंडटी (2.82 फीसदी), इंडसइंड बैंक (2.79 फीसदी), एक्सिस बैंक (2.54 फीसदी) और ओएनजीसी (2.32 फीसदी) शामिल रहे।

बीएसई के 19 सेक्टरों में 16 सेक्टरों में गिरावट दर्ज की गई, जबकि दो सेक्टरों के सूचकांक बढ़त के साथ बंद हुए और एक सेक्टर का सूचकांक सपाट रहा।

बीएसई के सबसे ज्यादा गिरावट वाले पांच सेक्टरों में औद्योगिक (2.49 फीसदी), पूंजीगत वस्तुएं (2.47 फीसदी), तेल व गैस (2.39 फीसदी), ऊर्जा (1.98 फीसदी) और उपभोक्ता विवेकाधीन वस्तुएं एवं सेवाएं (1.84 फीसदी) शामिल हैं।

बीएसई के जिन दो सेक्टरों के सूचकांक बढ़त के साथ बंद हुए, उनमें आईटी (0.91 फीसदी) और टेक (0.67 फीसदी) शामिल हैं, जबकि हेल्थकेयर का सूचकांक सपाट बंद हुआ।

बीएसई पर कुल 3,045 शेयरों में कारोबार हुआ जिनमें से 780 शेयरों में तेजी रही जबकि 2,091 शेयरों में गिरावट दर्ज की गई। कारोबार के आखिर में 174 शेयर बिना किसी बदलाव के बंद हुए।

जस्टिस संजय यादव होंगे मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय के अगले मुख्य न्यायाधीश


मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय के अगले मुख्य न्यायाधीश जस्टिस संजय यादव होंगे। वे चीफ जस्टिस अजय कुमार मित्तल की जगह लेंगे। दरअसल, अजय कुमार मित्तल 30 सितंबर को सेवानिवृत्त हो रहे हैं। इसके बाद जस्टिस संजय यादव इस पद को संभालेंगे।


कानून और न्याय मंत्रालय ने मंगलवार को गजेट नोटीफिकेशन जारी किया। इस आदेश में कहा गया है कि मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय के वरिष्ठतम जज संजय यादव, वर्तमान चीफ जस्टिस अजय कुमार मित्तल के 30 सितम्बर को सेवानिवृत्त होने के बाद, चीफ जस्टिस का प्रभार संभालेंगे।

भोपाल : मासूम बच्‍ची को तालाब में फेंकने वाली कलयुगी मां और उसके प्रेमी को कोर्ट ने 12 दिन की जुडिशल कस्टडी में भेजा



भोपाल। एक वर्षीय मासूम बच्ची की तालाब में फेंककर हत्या करने वाली कलयुगी मां और उसके प्रेमी को राजधानी भोपाल की न्‍यायिक मजिस्‍ट्रेट प्रथम श्रेणी स्‍नेहा सिंह की कोर्ट ने आज मंगलवार को 12 दिन की जुडिशल कस्टडी में भेजा है।


भोपाल बुलेटिन डॉट कॉम को मिली जानकारी के अनुसार आज मंगलवार को न्‍यायिक मजिस्‍ट्रेट प्रथम श्रेणी स्‍नेहा सिंह के न्‍यायालय में थाना तलैया द्वारा अपनी बच्‍ची को तालाब में फेंककर हत्‍या करने वाली आरोपी मां सोनम चौरसिया उम्र 23 साल निवासी रेलवे कालोनी औबेदुल्‍लागंज एवं उसके प्रेमी शिवम कुशवाह उम्र 22 साल निवासी रायसेन को पेश किया गया।

शासन की ओर से पैरवी करते हुए वरिष्‍ठ एडीपीओ आशीष त्‍यागी ने आरोपियों को न्‍यायिक अभिरक्षा में दिए जाने का सुझाव दिया गया। कोर्ट द्वारा अभियोजन के तर्कों एवं केस डायरी के अवलोकन उपरांत आरोपियों को 3 अक्‍टूबर 2020 तक न्‍यायिक अभिरक्षा में जेल भेजा है।

टूटी हडि्डयों को जोड़ने वाला बायोडिग्रेडबल बैंडेज, यह डैमेज रिपेयर करने के बाद शरीर में घुल जाता है; चूहे में सफल प्रयोग के बाद इंसानों में ट्रायल की तैयारी

ब्रिटिश वैज्ञानिकों ने खास तरह का बैंडेज तैयार किया है जो टूटी हुईं हडि्डयों को दोबारा जोड़ सकता है। यह एक तरह से प्लास्टर का काम करता है। इस प्रयोग के चूहे पर सफल होने के बाद अब इंसानों पर इसके ट्रायल की तैयारी चल रही है। इसे किंग्स कॉलेज लंदन के वैज्ञानिकों ने तैयार किया है।

5 पॉइंट : ऐसे काम करता है बैंडेज
1. किंग्स कॉलेज लंदन के वैज्ञानिक डॉ. शुक्रि हबीब कहते हैं, यह बैंडेज काफी बारीक और फ्लेक्सिबल है। यह बालों से महज 3 गुना मोटा है। ट्रीटमेंट के लिए जहां फ्रैक्चर हुआ है, वहां बेहद छोटा सा चीरा लगाकर बैंडेज लगाते हैं।

2. डॉ. हबीब के मुताबिक, बैंडेज में स्टेम सेल्स और बोन सेल्स हैं, ये फ्रैक्चर वाले हिस्से को कुदरती तौर पर भरने का काम करती हैं।

3. यह बायोडिग्रेडेबल बैंडेज है जो हडि्डयों को जोड़ने के बाद धीरे-धीरे शरीर में अवशोषित हो जाता है और इसका कोई साइडइफेक्ट नहीं दिखता।

4. चूहे में 8 हफ्तों तक बैंडेज लगे रहने के बाद एक्सरे किया गया। रिपोर्ट के मुताबिक, चूहे के सिर में डैमेज हुईं हडि्डयां जुड़ी हुईं मिलीं।

5. वैज्ञानिकों का दावा है, यह बैंडेज सीवियर डैमेज में भी रिकवरी को तेज करेगा, खासतौर पर बुजुर्ग मरीजों में।

बाहरी संक्रमण का खतरा कम
रिसर्चर्स का दावा है कि शरीर के अंदरूनी हिस्से में बैंडेज काम करता है, इसलिए उम्मीद है कि ओपन फ्रैक्चर में होने वाले संक्रमण को यह कम करेगा। बैंडेज को खास तरह के पॉलिमर से तैयार किया गया है, इसका नाम पॉलिकेप्रोलैक्टोन है। फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन से इसे दवाओं और दांतों के लिए इलाज में इस्तेमाल करने के लिए पहले से ही अनुमति दे रखी है।

टीम में एक और बैंडेज बनाया
टीम ने इसके अलावा एक और बैंडेज बनाया है। इसे वो प्रोटीन है जो शरीर में पाया है। यह मांसपेशियों और दूसरे अंगों की ग्रोथ को बढ़ाने व रिपेयर करने का काम करता है। इसका इस्तेमाल ऑर्गन, मसल या टिश्यू इंजरी में होगा।



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
UK Scientists Develop Biodegradable Bandage Bone-forming Stem Cells Into Bone Fractures

पीएम मोदी ने कोरोना काल में भी धूमधाम से अपना जन्मदिन उद्योगपतियों के साथ मनाया? जानिए वायरल वीडियो की सच्चाई

क्या हो रहा है वायरल: सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कुछ लोगों के साथ सेलिब्रेशन करते दिख रहे हैं। दावा किया जा रहा है कि ये वीडियो 17 सितंबर, 2020 का है। यानी मोदी जी के इस साल के जन्मदिन सेलिब्रेशन का। वीडियो के साथ कैप्शन लिखा जा रहा है- साहब मना रहे अपना जन्मदिन उद्योगपतियों के साथ गिलास टकराकर

और सच क्या है?

  • अलग-अलग की वर्ड सर्च करने से भी इंटरनेट पर हमें ऐसी कोई खबर नहीं मिली। जिससे पुष्टि होती हो कि पीएम मोदी ने उनका जन्मदिन इस साल उद्योगपतियों के साथ मनाया।
  • वायरल हो रहे वीडियो की फ्रेम को हमने गूगल पर रिवर्स इमेज के जरिए सर्च किया। ANI के यूट्यूब चैनल पर भी हमें यही वीडियो मिला। लेकिन, यहां ये वीडियो 6 जुलाई, 2017 को अपलोड किया गया है। स्पष्ट है कि वीडियो का इस साल मनाए गए पीएम मोदी के जन्मदिन से कोई संबंध नहीं है।
  • यूट्यूब पर दिए गए डिस्क्रिप्शन से पता चलता है कि वीडियो इजरायल का है। और इसमें पीएम मोदी इजरायल के एक वॉटर फिल्टर प्लांट के उद्घाटन में हिस्सा ले रहे हैं। वीडियो में पीएम मोदी ग्लास में भरकर उसी प्लांट का पानी पीते दिख रहे हैं। वीडियो में पीएम मोदी के बाईं तरफ इजरायल के राष्ट्रपति बेंजामिन नेतन्याहू भी खड़े दिख रहे हैं।
  • ANI के ट्विटर हैंडल पर उसी इवेंट की फोटो भी 6 जुलाई, 2017 को अपलोड की गई है। जिसका वीडियो हाल ही का बताकर शेयर किया जा रहा है।


आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
Fake News Expose : PM Modi celebrated his birthday with industrialists with great pomp even in Corona period? Know the truth of viral video

प्रशंसक की अपील- उपसभापति पद से इस्तीफा दे दीजिए; जब-जब किसान आंदोलन इस काले दिन को याद करेगा तब-तब आपका जिक्र आएगा

हरिवंश जी, आपको यह सार्वजनिक चिट्ठी लिखने की धृष्टता कर रहा हूं। चाहता तो निजी चिट्ठी भी लिख सकता था। इतना भरोसा आज भी है कि आप उसे पढ़ते और शायद जवाब भी देते। लेकिन यह मुद्दा ऐसा है कि निजी चिट्ठी लिखना अपनी जिम्मेवारी से मुंह चुराने जैसा होता।

पिछले बीस या शायद पच्चीस साल में आपने मुझे बहुत स्नेह दिया है। मेरा सौभाग्य था कि आप के जरिए ‘प्रभात खबर’ की अनूठी पत्रकारिता से मेरा परिचय हुआ। आपने पत्रकारिता के दौरान और फिर राजनीति में आने के बाद अनेक साथियों को अपने काम काज का ब्यौरा देने की स्वस्थ परंपरा बनाए रखी। जब आपके राज्यसभा में चुने जाने और फिर पहले ही कार्यकाल में राज्यसभा के उपसभापति का मान मिला तो शिष्टाचार की मांग के बावजूद बधाई नहीं दे पाया।

लोकतांत्रिक मर्यादाओं की परवाह न करने वाली यह सरकार आपको इस पद के लिए भरोसेमंद समझती है यह सोचकर अजीब लगा। थोड़ा डर भी लगा कहीं इतनी तेजी से सीढ़ी चढ़ने की कोई बड़ी कीमत तो नहीं होगी? रविवार को आपकी अध्यक्षता में राज्यसभा में जो कांड हुआ उसने इस डर की पुष्टि कर दी। उससे भी ज्यादा कष्ट वो चिट्‌ठी पढ़कर हुआ जो आपने उपराष्ट्रपति को लिखी। मानो इस कांड के असली शिकार आप थे।

यूं तो उम्मीद करनी चाहिए थी कि देश के किसानों के हित पर कुठाराघात करने वाले इन कानूनों के खिलाफ आप बोलते, लेकिन सभापति से यह उम्मीद नाजायज होती। फिर भी कम से कम इतनी उम्मीद तो थी कि जिस सवाल पर पूरे देश के किसान संगठन उद्वेलित हैं, उस पर आप पूरी और सार्थक बहस होने देंगे। लेकिन ऐसा लगा कि आप बहस को जल्द ही निपटा देने का मन बनाकर आए थे।

पूर्व प्रधानमंत्री देवेगौड़ा को भी बोलने का उचित मौका देने में कोताही कर रहे थे। जब सदन में विपक्षी सांसदों ने विरोध करना शुरू किया तो अचानक सदन को सूचना दिए बिना राज्यसभा टीवी को म्यूट कर दिया गया। लेकिन यह सब मेरी समझ है। हो सकता है गलत हो। असली कांड तब हुआ जब आपने इस सवाल पर ध्वनि मत से वोट करवाकर आनन-फानन में इन बिलों को पास घोषित कर दिया।

संसद के नियम आप बेहतर जानते हैं। ध्वनि मत से कोई प्रस्ताव तभी पारित होता है जब सभापति को हां या ना सुनने से ही बिल्कुल स्पष्ट हो जाए कि बहुमत एक तरफ है। ऐसे में भी अगर एक भी सांसद वोट गिनने की मांग करे, तो पर्ची डालकर वोटिंग अनिवार्य होती है। वर्तमान राज्यसभा की सदस्यता को देखते हुए एक तरफा बहुमत होने का तो सवाल ही नहीं होता। पता नहीं आवाज सुनकर आपको कैसे यह समझ आ गया? फिर सीपीएम के सदस्य के. रागेश ने नियमानुसार अपनी सीट से खड़े होकर मत विभाजन की मांग की।

आपने किस नियम, किस मर्यादा और किस नैतिकता के आधार पर सदन में वोट करवाने से इनकार किया? अगर सदन में बहुत हो हल्ला था तो क्या आप की जिम्मेवारी नहीं बनती थी कि सदन को एक बार या कई बार स्थगित कर यह सुनिश्चित करवाते कि वोट हो और बहुमत किसके पास है, इसका फैसला हो? अगर आपको मत विभाजन की मांग नहीं सुनाई दी, तो भी क्या आप नहीं जानते थे कि इन कानूनों के ऐतिहासिक महत्व को देखते हुए पूरा देश जानना चाहेगा कि कौन पार्टी और कौन सांसद कहां खड़ा था?

मामला तकनीकी नहीं है। सच यह है कि अकाली दल द्वारा मंत्रिमंडल से हटने के बाद राजनीतिक समीकरण तेजी से बदल रहे थे। किसान विरोधी दिखने का डर सबको सता रहा था। सरकार को समर्थन दे रही पार्टियों में टीआरएस और अन्नाद्रमुक भी पलटी खा चुके थे। बिल्कुल उसी स्वरूप में पास करने की बजाय उन्होंने सिलेक्ट कमिटी में भेजने की मांग कर दी थी। राज्यसभा में भाजपा के पास अपना बहुमत नहीं है।

सहयोगियों के पलटने से भाजपा के हाथ-पांव फूल रहे थे। डर था कि वोटिंग में कुछ और सहयोगी ना पलट जाएं। वास्तव में ऐसा होता या नहीं, यह अलग बात है। संभावना यही थी कि किसी ना किसी तरह भाजपा बहुमत का जुगाड़ कर ही लेती। लेकिन हारने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता था। यानी कि संकट था और ऐसे संकटमोचक की जरूरत थी जो टेढ़ी उंगली से घी निकाल सके। उस निर्णायक घड़ी में आपने यह भूमिका निभाई।

सच यह है कि जब-जब किसान आंदोलन इस काले दिन को याद करेगा तब-तब आपका जिक्र आएगा और मुझ जैसे आपके मित्रों का सिर शर्म से झुक जाएगा। जब-जब कोई शरीफ इंसान सत्ता राजनीति में जाएगा, उस पर संदेह करने का एक और कारण बन जाएगा। इसलिए आपके शुभचिंतक और प्रशंसक होने के नाते आप से अपील करना चाहता हूं कि आप राज्यसभा के उपसभापति के पद से इस्तीफा दे दीजिए।

मेरे कहने पर नहीं, किशन पटनायक को याद करके गद्दी छोड़ दीजिए। सिर्फ इसलिए नहीं कि इस प्रायश्चित से आपका दाग धुल जाएगा और इतने वर्ष में कमाया पुण्य मिट्टी में मिलने से बच जाएगा, बल्कि इसलिए कि आप साबित कर पाएंगे कि सच किसी भी कुर्सी से बड़ा होता है।
आपका अनुज, योगेंद्र यादव

(ये लेखक के अपने विचार हैं।)



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
योगेन्द्र यादव, सेफोलॉजिस्ट और अध्यक्ष, स्वराज इंडिया

2019 के टॉपर कार्तिकेय गुप्ता से जानिए पेपर सॉल्व करने की स्ट्रैटजी, साथ ही उन कॉमन मिस्टेक्स के बारे में, जो आपको बेहतर स्कोर करने से रोक सकती हैं

जेईई एडवांस 2020 परीक्षा 27 सितंबर को देश के 212 शहरों में सुबह 9 से 12 बजे तक और दोपहर 2:30 से 5:30 बजे तक होने जा रही है। चूंकि, अब परीक्षा में सिर्फ 4 दिन ही बाकी हैं। तो जाहिर है कैंडिडेट्स की तैयारी लगभग पूरी हो चुकी होगी। हालांकि, सिलेबस की तैयारी के अलावा भी कई सारी लर्निंग्स ऐसी हैं, जिन्हे परीक्षा में बेहतर स्कोर करने के लिए समझना बहुत जरूरी है।

परीक्षा हॉल में प्रवेश के बाद कुछ ऐसी गलतियां होती हैं। जिन्हें करने का मलाल आपको एग्जाम के बात होता है। ये बहुत ही कॉमन मिस्टेक हैं, जिन्हें अधिकतर स्टूडेंट्स करते ही हैं। आप इन गलतियों से बच सकते हैं, जेईई एडवांस परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन करने वाले कैंडिडेट्स के अनुभवों के जरिए।

आपके इसी काम को आसान बनाने के लिए हमने बात की है जेईई एडवांस- 2019 के टॉपर कार्तिकेय गुप्ता से। वे बता रहे हैं कि पेपर सॉल्व करने की कौन-सी स्ट्रैटजी आपके लिए बेहतर साबित होगी। और किन गलतियों से आपको बचना है।

23 सितंबर से 26 सितंबर तक क्या करें?

हर यूनिट को एक बार रिवाइज कर लें। क्योंकि, कई बार एग्जाम में सवाल को देखकर एकदम दिमाग में यह क्लिक नहीं हो पाता कि ये किस टॉपिक से पूछा गया है। इसलिए आखिरी समय में हर यूनिट पर एक नजर डालना जरूरी है। मॉक टेस्ट में कम मार्क्स आने से अगर आपको टेंशन होती है, तो इन आखिर के 4 दिनों में मॉक टेस्ट न दें। क्योंकि, इस समय माइंड को फ्रेश और तनावमुक्त रखना बहुत जरूरी है।

एग्जाम हॉल में प्रवेश के बाद...

कॉन्सेंट्रेशन बनाए रखने के लिए आपका कंफर्टेबल होना बहुत जरूरी है। मामूली दिखने वाली समस्याएं भी परीक्षा के दौरान कैंडिडेट का ध्यान भटकाती हैं। इससे बचने के लिए 3 पॉइंट की इस चेक लिस्ट को फॉलो करें

  • जहां आप बैठे हैं, वहां हद से ज्यादा कूलिंग या ज्यादा गर्मी न हो।
  • सीट 3 घंटे कंफर्टेबल बैठने लायक हो।
  • सीट के पास कोई विंडो नहीं होनी चाहिए, जिससे वॉइस डिस्टरबेंस आ रहा हो।

पेपर मिलने के बाद के 15 मिनट

पेपर शुरू होने से 30 मिनट पहले कैंडिडेट को कम्प्यूटर अलॉट हो जाता है। क्वेश्चन पेपर 15 मिनट पहले मिलता है। यही वह समय है, जब आपको पेपर सॉल्व करने की स्ट्रैटजी बनानी है। सारे सेक्शन पर एक नजर डालें। फिर तय करें कि सबसे आसानी से आप पेपर के किस हिस्से को सॉल्व कर सकते हैं। उसी से शुरूआत करें।

मैथ्स से शुरुआत करना बैड आइडिया हो सकता है

जेईई एडवांस में मैथ्स के सवाल अन्य सेक्शन की तुलना में ज्यादा समय लेते हैं। इसलिए मैथ्स से शुरुआत करना बैड आइडिया हो सकता है। क्योंकि लंबा समय बीतने के बाद भी कम सवाल हल हो पाते हैं, तो आप पैनिक होंगे। इस पैनिक से बचने के लिए अधिकतर स्टूडेंट्स पहले केमिस्ट्री को अटेंप्ट करना ही पसंद करते हैं। यही सही भी है।

श्योर रहें, कि कौन-सा टॉपिक मजबूत है और कौन- सा कमजोर

हर कैंडिडेट की कुछ वीकनेस होती हैं और कुछ स्ट्रेंथ। चूंकि अब पेपर में सिर्फ 4 दिन बचे हैं तो ये इस बात को लेकर पैनिक होने का समय नहीं है कि कुछ टॉपिक आप अच्छे से कवर नहीं कर पाए। स्थिति को स्वीकार करते हुए श्योर रहें कि आपका कौन-सा टॉपिक मजबूत है और कौन-सा कमजोर। इससे पेपर अटेंप्ट करते वक्त आपको तय करने में आसानी होगी कि किन सवालों को पहले सॉल्व करना है।

रीडिंग मिस्टेक और अटेंटिव न रहने से होता है बड़ा नुकसान

जाहिर है स्टूडेंट्स का पूरा फोकस सवालों को हल करने पर ही रहता है। लेकिन, जेईई एडवांस के पेपर में कई बार ऑप्शन कंफ्यूजिंग होते हैं। इसलिए सवाल को पढ़ना भी उतना ही जरूरी हो जाता है, जितना उसे सॉल्व करना। छोटी-छोटी रीडिंग मिस्टेक्स भी आपके स्कोर का बड़ा नुकसान कर सकती हैं। सवाल को ठीक से पढ़ना और सवाल को न भूलना बहुत जरूरी है। इसे दो उदाहरणों से समझिए।

एक नजर में एग्जाम पैटर्न

जेईई एडवांस में कैंडिडेट्स को दो पेपर सॉल्व करने होते हैं। पेपर-1 और पेपर-2 । हर पेपर के लिए कैंडिडेट को 3 घंटे का समय दिया जाएगा। पेपर-1 के बाद 2 घंटे का ब्रेक होगा। सभी सवाल फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ्स पर आधारित होंगे।



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
JEE Advance 2020 : Get to know the paper solving strategy from 2019 topper Karthikeya Gupta, as well as the common mistakes that can stop you from scoring better

अबु धाबी में मुंबई ने 2 मैच खेले, दोनों में हार मिली; 2014 में कोलकाता ने शिकस्त दी, इस सीजन में चेन्नई ने भी हराया

आईपीएल के 13वें सीजन का 5वां मैच कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) और मुंबई इंडियंस (एमआई) के बीच आज अबु धाबी में खेला जाएगा। इस मैदान पर मुंबई अब तक दो मैच खेल चुकी और दोनों में उसे हार ही मिली है। यहां टीम ने इस सीजन का ओपनिंग मैच खेला था, जिसमें चेन्नई सुपरकिंग्स ने 5 विकेट से शिकस्त दी थी। इससे पहले 2014 में केकेआर ने ही 41 रन से हराया था।

यूएई में मुंबई का रिकॉर्ड बेहद खराब रहा है। लोकसभा चुनाव के कारण 2014 में आईपीएल के शुरुआती 20 मैच यूएई में हुए थे। तब मुंबई ने यहां 5 मैच खेले और सभी में उसे हार मिली थी। वहीं, यूएई में केकेआर ने 5 में से 2 मैच जीते और 3 हारे हैं। अबु धाबी में केकेआर ने 3 मुकाबले खेले, जिनमें 2 में जीत और 1 मैच मिली।

मुंबई ने सबसे ज्यादा 4 और कोलकाता ने 2 बार खिताब जीते
आईपीएल इतिहास में मुंबई ने सबसे ज्यादा 4 बार (2019, 2017, 2015, 2013) खिताब जीता है। पिछली बार उसने फाइनल में चेन्नई को 1 रन से हराया था। मुंबई ने अब तक 5 बार फाइनल खेला है। वहीं, कोलकाता ने अब तक दो बार फाइनल (2014, 2012) खेला और दोनों बार चैम्पियन रही है।

आईपीएल में मुंबई का सक्सेस रेट 57.44%, यह केकेआर से ज्यादा
लीग में मुंबई इंडियंस 188 में से 109 मैच जीत के साथ टॉप पर काबिज है। टीम का सक्सेस रेट 57.44% है। मुंबई ने अब तक 79 मैच ही हारे हैं। वहीं, केकेआर ने अब तक 178 में से 92 मैच जीते और 86 मुकाबले हारे हैं। टीम का सक्सेस रेट 52.52% रहा है।

पिच और मौसम रिपोर्ट: अबु धाबी में मैच के दौरान आसमान साफ रहेगा। तापमान 29 से 38 डिग्री सेल्सियस के बीच रहने की संभावना है। पिच से बल्लेबाजों को मदद मिल सकती है। यहां स्लो विकेट होने के कारण स्पिनर्स को भी काफी मदद मिलेगी। शेख जायद स्टेडियम में टॉस जीतने वाली टीम पहले गेंदबाजी करना पसंद करेगी। यहां हुए पिछले 45 टी-20 में पहले गेंदबाजी वाली टीम की जीत का सक्सेस रेट 56.8% रहा है।

इस मैदान पर हुए कुल टी-20: 45
पहले बल्लेबाजी करने वाली टीम जीती: 19
पहले गेंदबाजी करने वाली टीम जीती: 26
पहली पारी में टीम का औसत स्कोर: 137
दूसरी पारी में टीम का औसत स्कोर: 128

केकेआर मुंबई के खिलाफ पिछले 10 में से एक ही मैच जीत सकी
मुंबई और केकेआर के बीच अब तक 25 मुकाबले खेले गए हैं। इसमें मुंबई ने सबसे ज्यादा 19 मैच जीते, जबकि 6 में उसे हार मिली है। 1 मुकाबला बेनतीजा रहा। पिछले 10 मुकाबलों की बात करें, तो केकेआर सिर्फ एक ही बार मुंबई को हरा सकी है। मुंबई की टीम यदि यह मैच जीत लेती है तो एक टीम के खिलाफ 20+ मैच जीतने वाली पहली टीम बन जाएगी।

केकेआर के लिए कार्तिक, रसेल और नरेन की-प्लेयर्स
कोलकाता को ऑफ स्पिनर और ओपनर बल्लेबाज सुनील नरेन के अलावा आंद्रे रसेल से सबसे ज्यादा उम्मीदें होंगी। हालांकि पिछले दिनों सीपीएल में रसेल ज्यादा गेंदबाजी करते नहीं दिखे। 2019 सीजन में रसेल ने आक्रामक बल्लेबाजी करते हुए 52 छक्के लगाए थे। आईपीएल में रसेल का सबसे ज्यादा 186.41 का स्ट्राइक रेट भी रहा है।

आईपीएल के सबसे महंगे विदेशी खिलाड़ी पैट कमिंस से केकेआर को उम्मीदें
केकेआर दिनेश कार्तिक की कप्तानी में इस सीजन का पहला मैच जीतना चाहेगी। टीम में आईपीएल इतिहास के सबसे महंगे विदेशी प्लेयर पैट कमिंस भी हैं। केकेआर ने इस ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज को 15.50 करोड़ में खरीदा है। इस कारण फ्रेंचाइजी को इनसे भी पूरी उम्मीदें होंगी। मुंबई में कप्तान रोहित शर्मा 15 करोड़ रुपए के साथ सबसे महंगे खिलाड़ी रहेंगे।

मुंबई सीजन की पहली जीत दिलाने का दारोमदार रोहित, हार्दिक और पोलार्ड पर
मुंबई को सीजन की पहली जीत दिलाने का दारोमदार कप्तान रोहित शर्मा के अलावा ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या और कीरोन पोलार्ड पर रहेगा। सूर्यकुमार यादव और सौरभ तिवारी मिडिल ऑर्डर में फिर नजर आ सकते हैं। वहीं, बॉलिंग डिपार्टमेंट जसप्रीत बुमराह, ट्रेंट बोल्ड और जेम्स पैटिंसन पर निर्भर रहेगा।



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
Kolkata Knight Riders (KKR) vs Mumbai Indians (MI) Head to Head Records In IPL 2020; Playing 11, Squad, Pitch Report Details and Updates

पीएम मोदी ने कोरोना काल में भी धूमधाम से अपना जन्मदिन उद्योगपतियों के साथ मनाया? जानिए वायरल वीडियो की सच्चाई

क्या हो रहा है वायरल: सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कुछ लोगों के साथ सेलिब्रेशन करते दिख रहे हैं। दावा किया जा रहा है कि ये वीडियो 17 सितंबर, 2020 का है। यानी मोदी जी के इस साल के जन्मदिन सेलिब्रेशन का। वीडियो के साथ कैप्शन लिखा जा रहा है- साहब मना रहे अपना जन्मदिन उद्योगपतियों के साथ गिलास टकराकर

और सच क्या है?

  • अलग-अलग की वर्ड सर्च करने से भी इंटरनेट पर हमें ऐसी कोई खबर नहीं मिली। जिससे पुष्टि होती हो कि पीएम मोदी ने उनका जन्मदिन इस साल उद्योगपतियों के साथ मनाया।
  • वायरल हो रहे वीडियो की फ्रेम को हमने गूगल पर रिवर्स इमेज के जरिए सर्च किया। ANI के यूट्यूब चैनल पर भी हमें यही वीडियो मिला। लेकिन, यहां ये वीडियो 6 जुलाई, 2017 को अपलोड किया गया है। स्पष्ट है कि वीडियो का इस साल मनाए गए पीएम मोदी के जन्मदिन से कोई संबंध नहीं है।
  • यूट्यूब पर दिए गए डिस्क्रिप्शन से पता चलता है कि वीडियो इजरायल का है। और इसमें पीएम मोदी इजरायल के एक वॉटर फिल्टर प्लांट के उद्घाटन में हिस्सा ले रहे हैं। वीडियो में पीएम मोदी ग्लास में भरकर उसी प्लांट का पानी पीते दिख रहे हैं। वीडियो में पीएम मोदी के बाईं तरफ इजरायल के राष्ट्रपति बेंजामिन नेतन्याहू भी खड़े दिख रहे हैं।
  • ANI के ट्विटर हैंडल पर उसी इवेंट की फोटो भी 6 जुलाई, 2017 को अपलोड की गई है। जिसका वीडियो हाल ही का बताकर शेयर किया जा रहा है।


आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
Fake News Expose : PM Modi celebrated his birthday with industrialists with great pomp even in Corona period? Know the truth of viral video

2019 के टॉपर कार्तिकेय गुप्ता से जानिए पेपर सॉल्व करने की स्ट्रैटजी, साथ ही उन कॉमन मिस्टेक्स के बारे में, जो आपको बेहतर स्कोर करने से रोक सकती हैं

जेईई एडवांस 2020 परीक्षा 27 सितंबर को देश के 212 शहरों में सुबह 9 से 12 बजे तक और दोपहर 2:30 से 5:30 बजे तक होने जा रही है। चूंकि, अब परीक्षा में सिर्फ 4 दिन ही बाकी हैं। तो जाहिर है कैंडिडेट्स की तैयारी लगभग पूरी हो चुकी होगी। हालांकि, सिलेबस की तैयारी के अलावा भी कई सारी लर्निंग्स ऐसी हैं, जिन्हे परीक्षा में बेहतर स्कोर करने के लिए समझना बहुत जरूरी है।

परीक्षा हॉल में प्रवेश के बाद कुछ ऐसी गलतियां होती हैं। जिन्हें करने का मलाल आपको एग्जाम के बात होता है। ये बहुत ही कॉमन मिस्टेक हैं, जिन्हें अधिकतर स्टूडेंट्स करते ही हैं। आप इन गलतियों से बच सकते हैं, जेईई एडवांस परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन करने वाले कैंडिडेट्स के अनुभवों के जरिए।

आपके इसी काम को आसान बनाने के लिए हमने बात की है जेईई एडवांस- 2019 के टॉपर कार्तिकेय गुप्ता से। वे बता रहे हैं कि पेपर सॉल्व करने की कौन-सी स्ट्रैटजी आपके लिए बेहतर साबित होगी। और किन गलतियों से आपको बचना है।

23 सितंबर से 26 सितंबर तक क्या करें?

हर यूनिट को एक बार रिवाइज कर लें। क्योंकि, कई बार एग्जाम में सवाल को देखकर एकदम दिमाग में यह क्लिक नहीं हो पाता कि ये किस टॉपिक से पूछा गया है। इसलिए आखिरी समय में हर यूनिट पर एक नजर डालना जरूरी है। मॉक टेस्ट में कम मार्क्स आने से अगर आपको टेंशन होती है, तो इन आखिर के 4 दिनों में मॉक टेस्ट न दें। क्योंकि, इस समय माइंड को फ्रेश और तनावमुक्त रखना बहुत जरूरी है।

एग्जाम हॉल में प्रवेश के बाद...

कॉन्सेंट्रेशन बनाए रखने के लिए आपका कंफर्टेबल होना बहुत जरूरी है। मामूली दिखने वाली समस्याएं भी परीक्षा के दौरान कैंडिडेट का ध्यान भटकाती हैं। इससे बचने के लिए 3 पॉइंट की इस चेक लिस्ट को फॉलो करें

  • जहां आप बैठे हैं, वहां हद से ज्यादा कूलिंग या ज्यादा गर्मी न हो।
  • सीट 3 घंटे कंफर्टेबल बैठने लायक हो।
  • सीट के पास कोई विंडो नहीं होनी चाहिए, जिससे वॉइस डिस्टरबेंस आ रहा हो।

पेपर मिलने के बाद के 15 मिनट

पेपर शुरू होने से 30 मिनट पहले कैंडिडेट को कम्प्यूटर अलॉट हो जाता है। क्वेश्चन पेपर 15 मिनट पहले मिलता है। यही वह समय है, जब आपको पेपर सॉल्व करने की स्ट्रैटजी बनानी है। सारे सेक्शन पर एक नजर डालें। फिर तय करें कि सबसे आसानी से आप पेपर के किस हिस्से को सॉल्व कर सकते हैं। उसी से शुरूआत करें।

मैथ्स से शुरुआत करना बैड आइडिया हो सकता है

जेईई एडवांस में मैथ्स के सवाल अन्य सेक्शन की तुलना में ज्यादा समय लेते हैं। इसलिए मैथ्स से शुरुआत करना बैड आइडिया हो सकता है। क्योंकि लंबा समय बीतने के बाद भी कम सवाल हल हो पाते हैं, तो आप पैनिक होंगे। इस पैनिक से बचने के लिए अधिकतर स्टूडेंट्स पहले केमिस्ट्री को अटेंप्ट करना ही पसंद करते हैं। यही सही भी है।

श्योर रहें, कि कौन-सा टॉपिक मजबूत है और कौन- सा कमजोर

हर कैंडिडेट की कुछ वीकनेस होती हैं और कुछ स्ट्रेंथ। चूंकि अब पेपर में सिर्फ 4 दिन बचे हैं तो ये इस बात को लेकर पैनिक होने का समय नहीं है कि कुछ टॉपिक आप अच्छे से कवर नहीं कर पाए। स्थिति को स्वीकार करते हुए श्योर रहें कि आपका कौन-सा टॉपिक मजबूत है और कौन-सा कमजोर। इससे पेपर अटेंप्ट करते वक्त आपको तय करने में आसानी होगी कि किन सवालों को पहले सॉल्व करना है।

रीडिंग मिस्टेक और अटेंटिव न रहने से होता है बड़ा नुकसान

जाहिर है स्टूडेंट्स का पूरा फोकस सवालों को हल करने पर ही रहता है। लेकिन, जेईई एडवांस के पेपर में कई बार ऑप्शन कंफ्यूजिंग होते हैं। इसलिए सवाल को पढ़ना भी उतना ही जरूरी हो जाता है, जितना उसे सॉल्व करना। छोटी-छोटी रीडिंग मिस्टेक्स भी आपके स्कोर का बड़ा नुकसान कर सकती हैं। सवाल को ठीक से पढ़ना और सवाल को न भूलना बहुत जरूरी है। इसे दो उदाहरणों से समझिए।

एक नजर में एग्जाम पैटर्न

जेईई एडवांस में कैंडिडेट्स को दो पेपर सॉल्व करने होते हैं। पेपर-1 और पेपर-2 । हर पेपर के लिए कैंडिडेट को 3 घंटे का समय दिया जाएगा। पेपर-1 के बाद 2 घंटे का ब्रेक होगा। सभी सवाल फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ्स पर आधारित होंगे।



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
JEE Advance 2020 : Get to know the paper solving strategy from 2019 topper Karthikeya Gupta, as well as the common mistakes that can stop you from scoring better

रिया से दीपिका तक ड्रग्स चैट में फंसा बॉलीवुड; IPL के ओपनिंग मैच को देखने का वर्ल्ड रिकॉर्ड बना; हरिवंश की चाय से इम्प्रेस हुए मोदी

एक अच्छी खबर। कोच्चि के अनंतु विजयन की 300 रुपए के टिकट पर 12 करोड़ रुपए की लॉटरी खुली। वहीं, दूसरी तरफ ड्रग्स मामले में रिया चक्रवर्ती की ज्यूडिशियल कस्टडी 6 अक्टूबर तक बढ़ गई। चलिए, शुरू करते हैं आज की मॉर्निंग न्यूज ब्रीफ...

आज इन 5 इवेंट्स पर रहेगी नजर

1. कंगना रनोट का ऑफिस तोड़ने के मामले की बॉम्बे हाईकोर्ट में सुनवाई।

2. आईपीएल में आज कोलकाता नाइट राइडर्स और मुंबई इंडियंस आमने-सामने होंगी। टॉस शाम 7 बजे होगा। मैच शाम साढ़े 7 बजे शुरू होगा।

3. प्रधानमंत्री मोदी कोरोना के मुद्दे पर मुख्यमंत्रियों के साथ रिव्यू मीटिंग कर सकते हैं।

4. सुदर्शन टीवी मामले में सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई होगी।

5. एनसीबी आज जया साहा को गिरफ्तार कर सकती है। फिल्म निर्माता मधु मोंटिना से ड्रग्स मामले में पूछताछ हो सकती है।

अब कल की 6 महत्वपूर्ण खबरें

1. निलंबित सांसदों के लिए चाय लेकर पहुंचे हरिवंश

कृषि बिलों के विरोध में हंगामा करने पर राज्यसभा से निलंबित 8 विपक्षी सांसदों ने संसद परिसर में रातभर धरना दिया, जो सुबह 11 बजे खत्म हुआ। राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश सुबह चाय लेकर पहुंचे, लेकिन सांसदों ने चाय पीने से मना कर दिया। हालांकि, मोदी ने हरिवंश की प्रशंसा की। इस बीच, लोकसभा से भी विपक्ष ने बायकॉट किया और 8 सांसदों का निलंबन वापस लेने की मांग की।

-पढ़ें पूरी खबर

2. दीपिका पादुकोण की वॉट्सऐप चैट के स्क्रीनशॉट्स में ड्रग्स का जिक्र

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने ड्रग्स चैट मामले में दीपिका पादुकोण और उनकी मैनेजर करिश्मा प्रकाश के बीच हुई बातचीत का खुलासा किया है, जो 28 अक्टूबर 2017 को हुई थी। अगर दीपिका जांच के घेरे में आती हैं तो उनके खिलाफ गंभीर धाराओं में मामला दर्ज हो सकता है। इस बीच, नारकोटिक्स ब्यूरो अब दीपिका समेत 3 एक्ट्रेस को पूछताछ के लिए बुला सकता है।

-पढ़ें पूरी खबर

3. क्या मोदी के लिए बिहार में फायदेमंद साबित होगा किसान बिल?

2016 के नवंबर में मोदी सरकार ने नोटबंदी का फैसला लागू किया। इसके बाद यूपी चुनाव में भारी बहुमत से चुनाव जीता। अब बिहार में चुनाव होना है। केंद्र सरकार किसानों से संबंधित तीन विधेयक लेकर आई है। तीनों को लेकर देशभर में विरोध जारी है। मगर इस बीच, भाजपा इन्हीं विधेयकों के बूते बिहार विधानसभा चुनाव में जीत की राह खोज रही है। क्या ऐसा हो पाएगा?

-पढ़ें पूरी खबर

4. महाराष्ट्र सरकार मुश्किल में, उद्धव-आदित्य और पवार को मिला नोटिस

चुनावी हलफनामे को लेकर राकांपा प्रमुख शरद पवार, महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे, आदित्य ठाकरे और बारामती से राकांपा सांसद सुप्रिया सुले समेत कुछ अन्य नेताओं को इनकम टैक्स का नोटिस मिला है। शरद पवार ने इसकी पुष्टि करते हुए तंज कसा कि वे (केंद्र सरकार) मुझे बहुत चाहते हैं। नोटिस के बाद भाजपा और महाराष्ट्र सरकार के बीच विवाद बढ़ेगा।

-पढ़ें पूरी खबर

5. गूगल के लिए पेटीएम कैसे बन गया 'गैम्बलिंग ऐप'?

18 सितंबर को गूगल प्ले स्टोर से पेटीएम को कुछ घंटों के लिए हटा दिया था। गूगल के मुताबिक, पेटीएम अपने ऐप से 'स्पोर्ट्स गैम्बलिंग' को प्रमोट कर रहा था। इसलिए उसे भारतीय कानून और गूगल की पॉलिसी के तहत हटाया गया। पेटीएम ने कहा- गूगल हमारे देश के कानून से ऊपर उठकर पॉलिसी बना रहा है। मनमाने ढंग से उन्हें लागू कर रहा है।

-पढ़ें पूरी खबर

6. आईपीएल का ओपनिंग मैच टीवी पर 20 करोड़ लोगों ने देखा

आईपीएल के 13वें सीजन का पहला मैच चेन्नई सुपरकिंग्स और मुंबई इंडियंस के बीच खेला गया। इसे टीवी पर 20 करोड़ लोगों ने देखा। यह एक वर्ल्ड रिकॉर्ड है। बीसीसीआई सचिव जय शाह ने ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल के आंकड़ों को शेयर करते हुए लिखा कि किसी भी खेल को टीवी पर इतने दर्शक नहीं मिले हैं। आईपीएल इस बार बिना दर्शकों के यूएई में खेला जा रहा है।

-पढ़ें पूरी खबर

अब 23 सितंबर का इतिहास

1857: रूसी युद्धपोत लेफर्ट फिनलैंड की खाड़ी में आए भीषण तूफान में गायब हुआ, 826 लोग मारे गए।

1908: हिंदी के प्रसिद्ध कवि रामधारी सिंह दिनकर का जन्म हुआ।

1965: भारत-पाकिस्तान के बीच युद्ध विराम की घोषणा हुई।

1973: नोबेल सम्मानित कवि पाब्लो नेरुदा का निधन हुआ।

1983: प्रसिद्ध कवि और साहित्यकार सर्वेश्वर दयाल सक्सेना का निधन हुआ।

जाते-जाते जिक्र हिंदी के प्रसिद्ध कवि रामधारी सिंह दिनकर का। आज ही के दिन 1908 में उनका जन्म हुआ था। पढ़िए उनकी बहुचर्चित कविता समर शेष है की चंद पंक्तियां....



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
Bollywood stuck in drugs chat from Riya to Deepika; World record made in the first match of IPL; Modi was impressed by the Deputy Chairman's tea

1952 में 'चेकर्स' नाम के कुत्ते ने बनाया रिचर्ड निक्सन को अमेरिका का उपराष्ट्रपति; भारत-पाकिस्तान के बीच युद्ध खत्म करने की घोषणा

इस समय अमेरिका में राष्ट्रपति चुनावों की गहमागहमी है। 3 नवंबर को वोटिंग होनी है। आरोप-प्रत्यारोप का दौर चल रहा है। ऐसे में चेकर्स स्पीच को याद करना महत्वपूर्ण है। पूर्व राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन ने यह स्पीच 23 सितंबर 1952 को दी थी। यह अमेरिकी इतिहास के सबसे चर्चित भाषणों में से एक है और इसके केंद्र में है चेकर्स नाम का एक कुत्ता।

किस्सा उस समय का है जब रिचर्ड निक्सन रिपब्लिकन पार्टी से उपराष्ट्रपति पद का चुनाव लड़ रहे थे। न्यूयॉर्क पोस्ट में खबर छपी कि रिचर्ड निक्सन ने एक सीक्रेट फंड बनाया है और कैम्पेन में आ रहे फंड का निजी इस्तेमाल हो रहा है। इस पर खूब विवाद हुआ। रिपब्लिकन पार्टी के कई नेताओं ने राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार ड्वाइट डी आइजनहावर से कहा कि निक्सन का टिकट वापस ले लें।

इन आरोपों पर निक्सन ने हॉलीवुड के अल कैपिटन थिएटर से अपनी सफाई पेश की। इसमें उन्होंने कैम्पेन फंड का पूरा हिसाब पेश किया। साथ ही कहा कि डोनेशन के तौर पर उन्हें एक ऐसी चीज मिली है, जिसे वे कैम्पेन को नहीं दे सकते। यह एक काला और सफेद अमेरिकन कॉकर स्पैनियल कुत्ता है- चेकर्स। इसे उनकी बेटी बहुत प्यार करती है। आलोचक कुछ भी कहें, वह कुत्ता किसी को नहीं देंगे।

यह स्पीच कई मायनों में खास थी। अमेरिका के राजनीतिक इतिहास में यह पहला टेलीवाइज्ड भाषण था। इसे 6 करोड़ लोगों ने अपने ड्राइंग रूम में देखा और सुना। इससे लोग इतने प्रभावित हुए कि निक्सन के उपराष्ट्रपति बनने की राह आसान हो गई। वे 1961 तक अमेरिका के उपराष्ट्रपति रहे। फिर 1969 से 1973 तक राष्ट्रपति भी रहे।

1965: भारत-पाकिस्तान का युद्ध खत्म हुआ

1965 के युद्ध के बाद पाकिस्तानी टैंक पर सवार भारतीय जवान।

1947 में आजाद होने के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच संघर्ष चलता रहा। खासकर कश्मीर को लेकर। 1965 में पाकिस्तान को लग रहा था कि भारत में प्रधानमंत्री लालबहादुर शास्त्री कमजोर हैं। इस वजह से उसने कश्मीर और पश्चिमी सीमा पर कुछ इलाकों में कब्जा करने की चाल चली थी। जवाब में भारत ने पश्चिमी सीमा पर मोर्चा खोला और पाकिस्तान को पीछे धकेलने पर मजबूर किया। संयुक्त राष्ट्र की पहल पर पांच हफ्ते के भीषण युद्ध के बाद 23 सितंबर को ही युद्ध खत्म करने की घोषणा की गई।

1889ः मारियो गेम बनाने वाली कंपनी निन्तेंडो की शुरुआत

निन्तेंडो का बेमिसाल कैरेक्टर है सुपर मारियो। जुलाई में सुपर मारियो के 1985 का
एक दुर्लभ वर्जन नीलामी के दौरान 1.14 लाख डॉलर में बिका।

फुसाजिरो यामाउचि ने 1889 में जापानी गेमिंग कंपनी निन्तेंडो कोप्पई बनाई। यह क्योटो में थी। यह उस समय हानाफुडा कार्ड्स बनाती थी और उसे बेचती थी। 1981 में डॉन्की कॉन्ग के तौर पर आर्केड गेम से निन्तेंडो ने इलेक्टॉनिक और वीडियो गेम्स इंडस्ट्री में नाम कमाया। निन्तेंडो ने ही मारियो और सुपर मारियो भी बनाया, जो एक समय में बच्चों के बीच बहुत ज्यादा लोकप्रिय रहा। मजे की बात यह है कि यह गेम्स आज के मॉर्टल कॉम्बेट गेम्स से पूरी तरह अलग है।

आज के दिन को इन घटनाओं के लिए भी याद किया जाता है...

  • 1739ः रूस और तुर्की के बीच बेलग्रेड शांति समझौते पर हस्ताक्षर।
  • 1803ः ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी ने असाय के युद्ध में मराठा सेना को हराया।
  • 1857ः युद्धपोत लेफर्ट फिनलैंड की खाड़ी में आए भीषण तूफान में गायब हुआ, 826 लोग मारे गए।
  • 1929ः बाल विवाह निरोधक विधेयक (सारदा कानून) पारित।
  • 1955ः पाकिस्तान ने बगदाद समझौते पर हस्ताक्षर किए।
  • 1958ः ब्रिटेन ने क्रिसमस द्वीप पर वायुमंडलीय परमाणु परीक्षण किया।
  • 1970ः अब्दुल रजाक बिन हुसैन मलेशिया के प्रधानमंत्री बने।
  • 1979ः सोमालिया के संविधान को राष्ट्रपति ने मंजूरी दी।
  • 1986ः अमेरिकी कांग्रेस ने गुलाब को अमेरिका का राष्ट्रीय फूल घोषित किया।
  • 1992ः यूगोस्लाविया का संयुक्त राष्ट्र संघ से निष्कासन।
  • 1993ः दक्षिण अफ्रीका में अश्वेतों को सरकार बनाने की प्रक्रिया में शामिल होने का अधिकार मिला।
  • 1998: भारतीय प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने मुलाकात की और दोनों देश कश्मीर पर बातचीत को राजी हो गए।
  • 2004ः हैती में तूफान के बाद आई बाढ़ में कम से कम 1,070 लोगों की मौत।
  • 2009ः इसरो ने उपग्रह शन सैट-2 समेत कुल सात उपग्रह अंतरिक्ष की कक्षा में स्थापित किए।
  • 2009ः छत्तीसगढ़ के कोरबा में 820 फीट लंबी चिमनी गिरने से 40 से ज्यादा लोगों की मौत हुई।
  • 2014: भारतीय सेना ने कहा कि चीनी सैनिक लद्दाख के चूमार क्षेत्र में तीन किमी तक अंदर घुस आए हैं।
  • 2016ः भारत ने फ्रांस के साथ 36 रफाल फाइटर जेट्स खरीदने की डील पर साइन किए।
  • 2017ः राजस्थान में कौशलेंद्र प्रपन्नाचार्य फलाहारी महाराज को दुष्कर्म मामले में गिरफ्तार किया गया।
  • 2018ः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थ इंश्योरेंस स्कीम लॉन्च की। इसे मोदीकेयर भी कहा गया।

जन्मदिन

  • 1908ः रामधारी सिंह दिनकर (कवि)
  • 1935: प्रेम चोपड़ा (फिल्म अभिनेता)
  • 1957: कुमार सानू (बॉलीवुड सिंगर)
  • 1985: अंबाती रायुडू


आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
Today History for September 23rd/ What Happened Today | 1952 Richard Nixon delivered Checkers Speech| 1965 India Pakistan war ended| 1889 Nintendo incepted | 2018 Modicare launched in India | 2016 India France inked Rafale deal

वीडियो राशिफल: 6 राशियों की होने जा रही है बल्ले बल्ले, जानें कैसा रहेगा आपका दिन

आज अश्विन माह ( अधिकमास ) के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि ( 07:56 PM तक फिर अष्टमी ) व दिन बुधवार ( 23 September 2020, Wednesday ) का है। इस दिन ज्येष्ठा नक्षत्र ( 06:25 PM तक फिर मूल ) रहेगा।

आज का राशिफल : Today Rashifal - 23 September 2020, Wednesday...

1. मेष राशि :- पिता के सहयोग से कार्य सफल होने की संभावना के साथ ही आज किया गया श्रम सार्थक होगा।। संतान के दायित्व की पूर्ति होगी। अधीनस्थ कर्मचारी या भाई पड़ोसी आदि के कारण तनाव मिल सकता है। अपने राज दूसरे को बताने से बचें।

2. वृषभ राशि :- आज अपनों से राजनीती का शिकार हो सकते हैं। आय बढ़ने के साथ ही सामाजिक जीवन मे लोकप्रियता बढेगी। लेकिन, लेन-देन में सावधानी बरतें। बुजुर्गो की भावनाओं का सम्मान करें।

3. मिथुन राशि :- नौकरी में तरक्की की संभावनाएं बनी रहेंगी। छोटी-छोटी समस्याओं से घबराने की बजाय हिम्मत से काम लें। यात्रा की सम्भावना के बीच पारिवारिक कार्यक्रमों में ज्यादा व्यस्त रहेंगे।

4. कर्क राशि :- परिवारिक उलझे मामले सुलझने के आसार हैं। रुका धन मिलने की संभावना है। आज दूसरों के मामलों में दखल से बचें, सामूहिक कार्यों में सबकी सलाह लें। स्वास्थ्य में ताजगी बनी रहेगी।

5. सिंह राशि :- ऑफिस में व्यस्तता के चलते घरेलू कार्यों पर ध्यान नहीं दें पाएंगे। आज सोच-समझकर कर पैसे का लेनदेन करें। व्यक्तिगत संबंध मधुर होंगे। प्रॉपर्टी में निवेश का सही समय हैं। आज आप विरोधियों को उन्हीं की चालों में फंसा देंगे।

6. कन्या राशि :- अपने व्यवहार से अधिकारियों का दिल जीत लेंगे साथ ही राजकीय मामले सुलझने से राहत मिलेगी। व्यापारिक योजनाओं पर खर्च होगा। जबकि तनाव होने से निर्णय नहीं ले पाएंगें। शांति से समय व्यतीत करें।

7. तुला राशि :- साझेदारी में टकराव टालने की कोशिश सफल रहेगी, बातचीत में नरमी बरतें। नई योजना शूरू करने का अनुकूल समय हैं। कारोबारी विस्तार का मन बनेगा। लेकिन, ध्यान रखें आपने जिन लोगों को अपना माना, वे आप की निंदा करने से पीछे नहीं हट रहे हैं।

8. वृश्चिक राशि :- आज लापरवाही के कारण अच्छी योजना हाथ से निकल सकती है। राजकीय मामले पक्ष में हल हो सकते हैं। मधुर व्यवहार से पारिवारिक समस्या का समाधान होगा। दाम्पत्य सुख मिलेगा।

9. धनु राशि :- बेरोजगारों को नौकरी मिलने की संभावना के बीच व्यवसायिक अटके काम पूरे होंगे। युवाओं को अध्ययन के लिए विदेश जाना पड़ सकता है। भावनात्मक संबंध रिश्तों में बदल सकतें हैं। धन आगमन भी सम्भव है।

10. मकर राशि :- आज आप अपने वाक्चातुर्य और कार्यकुशलता से खास पहचान बना लेंगे। आज मेहनत से काम करें, सफलता मिलेगी। लेकिन, जरूरी कुछ काम रुकने से तनाव होगा। परिवार के साथ घूमने का कार्यक्रम बनेगा। प्रियजन से मुलाकात सुखद रहेगी।

11. कुम्भ राशि :- दिन की शुरुआत मंगलमय होगी। धन, सम्मान, यश, कीर्ति में वृद्धि होगी। शासन सत्ता का सहयोग मिलेगा। पारिवारिक जीवन सुखमय होगा। स्थानान्तरण व विभागीय परिवर्तन के योग हैं। गृहोपयोगी वस्तुओं में वृद्धि होगी।

12. मीन राशि :- स्वयं पर भरोसा रखा तो आज आप मेहनत के बल पर मुश्किल काम भी आसानी से कर लेंगे। जब जब ऐसा होता है आप सभी कार्य आसानी से पूरे कर लेते हैं। व्यापारिक विस्तार की योजना बनेगी। प्रतियोगी परीक्षा में सफलता मिल सकती हैं। आज किसी भी दूसरे को दोष देने की बजाय अपनी कमियां दूर करें।


8 राशियों के लिए काम में तरक्की और आर्थिक लाभ, पारिवारिक उत्सव का संकेत, 4 राशियों के लिए कुछ परेशानी

बुधवार, 23 सितंबर 2020 को टैरो राशिफल के मुताबिक 12 में से 8 राशियों के लिए दिन खुशियों और तरक्की से भरा रह सकता है। कुछ लोगों को बिजनेस में आगे बढ़ने के मौके मिल सकते हैं। कुछ लोगों के लिए अप्रत्याशित आर्थिक लाभ के भी संकेत हैं। वहीं, 4 राशियों के लिए समय कुछ परेशानी भरा रह सकता है। मेष राशि वालों के लिए मित्रों के साथ तनाव रहने के संकेत, वृष राशि वालों के लिए सामाजिक कार्यों में भागीदारी का दिन, मिथुन राशि वालों के लिए परिस्थितियों में बदलाव के संकेत। आपके लिए कैसा रहेगा दिन जानिए टैरो कार्ड रीडर प्रणिता देशमुख से।

  • मेष - ICE-OLATION

यदि कोई बात मन में खटक रही हो, तो उसे खुलकर बोलने की जरूरत है। मन ही मन में दबाई बात आपके मन में कटुता बढ़ा रही है। मित्र से व्यवहार करने से परहेज रखें। मित्र के साथ किया काम मित्रता में तनाव का कारण होगा जिसका असर आपके काम पर भी होगा। आज आपको कोई ना कोई चिंता सताती रहेगी। चिंता का समाधान पाने के लिए अपनी अपेक्षाओं का आकलन करें।
करियर - करियर में प्रगति होगी लेकिन आत्म संतुष्टि नहीं मिलेगी।
लव - पार्टनर से अपनी भावनाएं बाटे हल्का महसूस होगा।
हेल्थ - खाने में नमक का प्रयोग कम करें।

  • वृषभ - INNOCENCE

आप के व्यक्तित्व का नया पहलू आज उभर कर आएगा। सामाजिक कार्य में रुचि बढ़ेगी, जो लोग सामाजिक कार्य का हिस्सा है। वह लोग अपने कार्य द्वारा पहचान बना सकते हैं। बच्चों से जुड़े कार्य करने वालों को विशेष आनंद और अपने काम प्रति आस्था जागरूक होगी। भौतिक प्रगति के साथ आप आत्मिक आनंद भी प्राप्त करेंगे। घर के बच्चों की प्रगति और उनका साथ मन की शांति बनाए रखें।
करियर - अपने काम से आनंद प्राप्त होगा।
लव - पति-पत्नी में संबंध दृढ़ बनाने का प्रयास सफल होगा।
हेल्थ - बुजुर्गों के स्वास्थ्य में सुधार होगा।

  • मिथुन - CHANGE

आपकी निजी व्यक्ति के साथ रिश्तों में बदलाव दिख रहा है। यह बदलाव सही या गलत नहीं है, बल्कि यह आपके विचार बदलते विचार और मानसिक स्तर पर हुआ बदलाव का परिणाम है। यह समय आप को मजबूत और आत्मनिर्भर बनाने के लिए उचित है। छोटी परेशानियों से डगमगाने की जरूरत नहीं है, जो बात आपकी तरक्की के लिए उचित नहीं है; वह बात आपके मार्ग से निकल जाएगी। बदलती घटनाओं पर ज्यादा काबू करने की कोशिश ना करें।
करियर - करियर में आया बदलाव तकलीफ देगा।
लव - पार्टनर्स में एक दूसरे को समझने का प्रयास जारी रहेगा।
हेल्थ - मानसिक असंतुलन का असर शरीर पर भी दिखेगा।

  • कर्क - MATURITY

किसी भी प्रकार की भावनाओं को या किसी की भी भावनाओं को समझने में आप हमारे दूसरों की भावनाओं की कदर आप अच्छे से कर सकते हैं। अभी आपका अपने मन स्थिति को बेहतर बनाने का प्रयास सफल हो रहा है। आसपास की उर्जा को लेकर आप और संवेदनशील हो रहे हैं। यह आपकी उर्जा के प्रति बढ़ते ज्ञान का परिणाम है। मेडिटेशन और सूर्य नमस्कार से आप अपनी सकारात्मक ऊर्जा को और बढ़ा सकती है।
करियर - आपसे कनिष्ठ कर्मचारियों का सहयोग मिलना मुश्किल होगा।
लव - लव लाइफ से समाधान होगा।
हेल्थ - स्वास्थ्य काम की भागदौड़ से थोड़ा बिगड़ सकता है।

  • सिंह - BREAKTHROUGH

घर से जुड़े कोर्ट कचहरी के काम में सफलता होगी। आज आपको मनचाही चीज या मन के अनुसार काम होने के लिए अधिक मेहनत लेनी होगी। आज आपका आत्मविश्वास और अपनी बात मनाने का जज्बा रहेगा। परिस्थिति पर आपका नियंत्रण रहेगा। अटके हुए काम पर ज्यादा ध्यान होगा। परिवार में छोटी-छोटी बातों पर लड़ाई हो सकती है। पति-पत्नी में हो रहे विवाद के बारे में तीसरे से ज्यादा चर्चा ना करें।
करियर - काम की प्रगति में संतोष रहेगा।
लव - रिलेशनशिप में उतार-चढ़ाव रहेंगे। ज्यादा बात करना टालें।
हेल्थ - बीपी से जुड़े विकार में राहत मिलेगी।

  • कन्या - INTEGRATION

आज आप पर भावनाओं का असर ज्यादा होगा। काम पर ध्यान बढ़ाना है, तो आपको अपने मानसिक स्वास्थ्य पर ध्यान देना होगा। आपके भूतकाल से जुड़े व्यक्ति फिर से आपके जीवन में आ सकते हैं। उनसे दूरी बनाए रखें। आर्थिक योजना और निवेश से जुड़ा निर्णय सफल रहेगा। आपके माता की कृपा दृष्टि आप पर बनी रहेगी। कोई निर्णय की वजह से मन में अस्थिरता होगी तो उसका हल भी जल्दी प्राप्त होगा।
करियर - सहकर्मी और वरिष्ठ हो से खेल मेल का वातावरण रहेगा।
लव - लव लाइफ से आप संतुष्ट रहेंगे।
हेल्थ - मसालेदार खाना पेट में जलन बढ़ा सकता है।

  • तुला - EXHAUSTION

अपने अहंकार को संतुष्ट करने के लिए आप बेकार की बातों पर वक्त जाया कर रहे हैं। यदि कोई व्यक्ति से आपको जलन है तो वह आपकी असुरक्षित दर्शाता है। अपनी असुरक्षा की भावना पर काम कर लें। आपके प्रगति में रोक ला रही है। पैसों से जुड़े व्यवहार ध्यान से करें। आपके बारे में गलतफहमी बढ़ा सकता है। मित्र से बातचीत बंद होना आपको दुःखी कर सकता है, लेकिन उनका आप से दूर रहना ही अभी के लिए उचित होगा।
करियर - आपके काम का श्रेय या किसी और को मिल सकता है।
लव - लव लाइफ में तनाव रहेगा।
हेल्थ - स्वास्थ्य ठीक रहेगा।

  • वृश्चिक - FLOWERING

शारीरिक स्वास्थ्य को लेकर आप अधिक जागरूक रहेंगे। काम और परिवार से ज्यादा आज खुद पर ध्यान होगा। कल्पना को वास्तविकता में लाने का प्रयास जारी रहेगा। अपने जीवन में व्यवस्थापन करने में आप कामयाब होंगे। किसी महत्वपूर्ण काम की चर्चा उससे संबंधित व्यक्ति से ही करें। योग्य पद्धति से किया उपवास और सात्विक जीवन शैली सकारात्मक ऊर्जा बढ़ाएंगे।
करियर - व्यापार में सफलता और समाधान मिलेगा।
लव - पार्टनर का सहयोग काम के प्रति निष्ठा बढ़ाएगा।
हेल्थ - बॉडी डिटॉक्स से पुरानी बीमारी ठीक हो सकती है।

  • धनु - ABUNDANCE

काम में आज लक्षणीय प्रगति की संभावना है। इसलिए, काम को पूरी निष्ठा से करें। आपके काम में आर्थिक प्रगति के साथ आपका सम्मान भी बढ़ेगा। नए लोगों से बनी जान-पहचान आर्थिक प्रगति के लिए सहायक होगी। भागीदार से सहयोग और काम के लिए प्रेरणा भी मिलेगी। आप और आपके भागीदार काम को उचित अंजाम देंगे। भागीदार से प्राप्त हुआ आत्मविश्वास आपके व्यक्तिगत प्रगति में भी सहायक होगा।
करियर - काम में गति लाने की आवश्यकता है।
लव - आपकी तरक्की से पार्टनर में असुरक्षा की भावना आ सकती है।
हेल्थ - हाथ पांव में दर्द कमजोरी के कारण हो सकता है।

  • मकर - TRUST

जीवन से जुड़े हर पहलुओं का जवाब आपके पास हो, यह जरूरी नहीं है। काम से जुड़े निर्णय में आपको आत्मविश्वास और श्रद्धा के साथ ही आगे बढ़ना होगा। आज मिली सफलता हो या असफलता दोनों की जिम्मेदारी लेना आज आपको सीखना होगा। अपने प्रति बनाए रखा आत्मविश्वास आपको सकारात्मक ऊर्जा प्रदान करेगा और भले ही आपके समस्या का समाधान ना मिले, लेकिन उस समाधान से जुड़ी दिशा जरूर मिलेगी। खुद पर बनाए हुए आत्मविश्वास से ही आप परिवार से जुड़ी समस्याओं का भी हल ढूंढ सकते हैं।
करियर - नया काम आपको अब तक सीखे हुए कौशल को आजमाने का अवसर देगा।
लव - लव रिलेशनशिप में आप जरूरत से ज्यादा उलझ रहे हैं।
हेल्थ - शारीरिक बीमारी को ठीक करने के लिए आपका मनोबल सहायक रहेगा।

  • कुंभ - THE OUTSIDER

काम में नए तरीके आजमाने की जरूरत है। नए तरीके आपको असुविधाजनक लगेंगे, लेकिन प्रगति के लिए आवश्यक होंगे। मित्रों से हुआ मतभेद दुःख और अकेलापन ला सकता है। परिवार के साथ भी भावनात्मक दूरियां महसूस होंगी। विचार प्रणाली को विस्तारित करने की जरूरत है। काम के बारे में या किसी पर्सनल रिलेशनशिप के बारे में सारी बातें ना जानने की वजह से बेचैनी रहेगी।
करियर - काम से जुड़ी प्रगति में और वक्त लगेगा।
लव - अगर कोई व्यक्ति की चाह मन में है, तो वह व्यक्ति आपको क्यों चाहिए, इस बात पर और विचार करें।
हेल्थ - अनिद्रा की परेशानी होगी।

  • मीन - NO THINGNESS

आपको शुरुआत फिर से शून्य से करनी होगी। यह आपको मिला एक नया मौका होगा। इस अवसर को आप किस तरह से इस्तेमाल करते हैं, यह भविष्य की दिशा तय रहेगा। आपकी हर बात में जल्दी प्रगति की इच्छा आपको जीवन के ठहराव की भावना दे रही है। अपनी योजनाओं को फिर से पढ़ कर इनर गाइडेंस के साथ आगे बढ़ें। इस बार घर और काम का संतुलन बिगड़ने ना दें।
करियर - नए अवसर के लिए मार्ग खुल रहे हैं।
लव - प्रेम संबंधों के लिए ठीक वक्त नहीं है।
हेल्थ - सेहत को संतुलित रखने का प्रयास करते रहें।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Wednesday rashifal 23 September 2020 daily horoscope in hindi pranita deshmukh dainik rashifal rashifal in hindi daily horoscope

24 सितंबर से खुलेंगे गुवाहाटी के कामाख्या मंदिर के दरवाजे, 15 मिनट से ज्यादा कोई नहीं रह पाएगा मंदिर के अंदर, दिनभर में 500 लोग ही कर सकेंगे दर्शन

17 मार्च से बंद असम के महाशक्तिपीठ कामाख्या मंदिर के दरवाजे 24 सितंबर से भक्तों के लिए खुल रहे हैं। मंदिर ट्रस्ट ने इसके लिए तैयारी शुरू कर दी है। मंदिर में दर्शन के लिए काफी सख्त गाइड लाइंस तय की गई हैं। गुवाहाटी में इस समय कोरोना के काफी केस निकल रहे हैं लेकिन मंदिर खोलने की मांग भी काफी समय से चल रही है।

पहले ट्रस्ट ने प्रस्ताव बनाया था कि मंदिर में केवल परिक्रमा के लिए लोगों को प्रवेश दिया जाए। 24 सितंबर से मंदिर में पूरे दिन में करीब 500 लोगों को प्रवेश मिलेगा। मंदिर में कोई भी व्यक्ति 15 मिनट से ज्यादा नहीं रह पाएगा। मंदिर ट्रस्ट ने सरकार द्वारा तय गाइड लाइन के मुताबिक मंदिर खोलने की पूरी तैयारी कर ली है।

मंदिर ट्रस्ट के मुताबिक, लॉकडाउन से पहले 1500 से 2000 लोग रोज दर्शन करने आ रहे थे। त्योहारों के सीजन में 20 से 25 लाख लोग भी आते हैं। खासतौर पर अंबुवाची उत्सव, जो जून महीने में होता है, इस दौरान मंदिर में भक्तों की संख्या काफी ज्यादा रहती है।

ये रहेंगे मंदिर में प्रवेश के नियम

  • मंदिर की वेबासाइट से दर्शन के कम से कम एक दिन पहले ऑनलाइन बुकिंग होगी।
  • मंदिर की ओर से दर्शन के लिए तय समय दिया जाएगा।
  • एक बार में मंदिर के भीतर सौ लोगों से ज्यादा को प्रवेश नहीं मिलेगा।
  • दर्शन के लिए आपकी कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव होनी चाहिए।
  • मंदिर में कोई भी भक्त 15 मिनट से ज्यादा देर नहीं ठहर सकेगा।
  • किसी भी विशेष पूजा आदि में बाहरी लोग शामिल नहीं होंगे।
  • मंदिर को हर दो घंटे में सैनेटाइज किया जाएगा।
  • मंदिर में आने वाले लोगों को रैपिड एंटीजन टेस्ट भी होगा। इसके लिए एक मेडिकल टीम मंदिर में तैनात रहेगी।

लॉकडाउन में मंदिर को भारी नुकसान

लॉकडाउन के दौरान मंदिर 17 मार्च को बंद कर दिया गया था। इसके कारण ट्रस्ट को खासा नुकसान उठाना पड़ा है। मंदिर में दान की आवक इस समय लगभग ना के बराबर ही है। पिछले 6 महीनों में मंदिर की आर्थिक स्थिति खासी प्रभावित हुई है।

हर साल जून में लगने वाला प्रसिद्ध अंबुवाची मेला भी नहीं लगा, इससे मंदिर को मिलने वाला दान लगभग शून्य हो गया है। मंदिर के सफाई कर्मचारियों को तो पूरी सैलेरी दी जा रही है, लेकिन जो स्टाफ घर पर है उसे सिर्फ 40 प्रतिशत सैलेरी ही दी जा रही है। मंदिर में करीब 250 कर्मचारी ही हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
हर साल जून में लगने वाला प्रसिद्ध अंबुवाची मेला भी इस बार नहीं लगा, इससे मंदिर को मिलने वाला दान लगभग शून्य हो गया है।

अधिक मास में व्रत और उपवास की परंपरा है; रिसर्च रिपोर्ट के मुताबिक इनसे बढ़ती है उम्र और कम होता है कैंसर जैसी बीमारियों का खतरा

पुरुषोत्तम महीने में यानी अधिक मास के दौरान व्रत और उपवास की परंपरा है। धर्म ग्रंथों में भगवान के प्रति श्रद्धा और भक्ति के लिए फलाहार या पूरे दिन सिर्फ पानी पीकर ही व्रत या उपवास किया जाता है। इसे तप भी कहा जाता है। आयुर्वेद में इस क्रिया को लंघन का नाम दिया गया है। वहीं विज्ञान इसे बीमारियों के खिलाफ कारगर हथियार के तौर पर भी मान रहा है। जर्मनी के दो प्रतिष्ठित संस्थानों डीजेडएनई और हेल्महोल्ज सेंटर के साझा शोध में उपवास संबंधी कई जानकारियां सामने आई हैं।

  • वैज्ञानिकों ने चूहों के दो ग्रुप बनाए। एक को उपवास कराया और दूसरे को नहीं। इसके बाद जो तथ्य सामने आए वह सुखद और चौंकाने वाले रहे। शरीर को फायदा तब मिलता है जब भोजन के बीच में लंबा अंतराल रखा जाता है, यानि एक दिन उपवास रखते हुए सिर्फ पानी पीना। जिन चूहों को ऐसा कराया गया वे पांच फीसदी ज्यादा जिए।

ढल जाता है शरीर
शुरू में उपवास करने से शरीर परेशान होता है, लेकिन वक्त के साथ उसे भूखे पेट रहने की आदत पड़ जाती है। 12 घंटे तक कुछ न खाने वाले लोगों के शरीर में ऑटोफागी नाम की सफाई प्रक्रिया शुरू हो जाती है। बेकार कोशिकाओं को शरीर अपने आप साफ करने लग जाता है। भूख और उपवास नई कोशिकाओं को बनाने में बेहद फायदेमंद है। ऑटोफागी प्रक्रिया की खोज के लिए 2016 में जापान के वैज्ञानिक योशिनोरी ओसुमी को नोबेल पुरस्कार मिला था।
औषधि है उपवास
उपवास से जीवन लंबा हो सकता है। डायबिटीज और कैंसर जैसी बीमारियों का खतरा भी कम हो सकता है। लेकिन उपवास का बुढ़ापे पर कोई असर नहीं दिखा। वैज्ञानिकों के मुताबिक बुढ़ापे की परेशानियां एक प्राकृतिक प्रक्रिया हैं। वैज्ञानिकों ने बुढ़ापे से जुड़ी 200 समस्याओं पर गौर किया। बुढ़ापे में शरीर की सक्रियता कम हो जाती है। आंख और कान भी कमजोर हो जाते हैं। चाल धीमी पड़ जाती है। इसलिए बुढ़ापे पर उपवास का कोई असर नहीं पड़ता।

धीमे बढ़ी कैंसर कोशिकाएं
चूहों में भी मौत का सबसे बड़ा कारण कैंसर ही है। वैज्ञानिकों ने कैंसर से जूझ रहे चूहों के भी दो ग्रुप बनाए। एक को व्रत कराए, दूसरे को नहीं। जांच में पाया गया कि भूखे रहने वाले चूहों के शरीर में कैंसर कोशिकाएं धीमी गति से बढ़ीं। उपवास वाले चूहे 908 दिन जीवित रहे। वहीं लगातार खाने वाले 806 दिन।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
There is a tradition of fasting and fasting in the greater month; According to research report, they increase age and reduce the risk of diseases like cancer.

आचार्य वराहमिहिर और भर्तृहरी के सूत्र, जिनमें छुपा है सरल और सफल जीवन का मंत्र

आचार्य वराहमिहिर ने अपने ज्योतिष ग्रंथ बृहत्संहिता में नीतियों का भी ज्ञान दिया है। जो इंसान को सफल और सबसे अच्छा बनाती हैं। उनकी बताई गई बातों में मानव कल्याण की भावना है। आचार्य वराह मिहिर ने अपने ग्रंथ में बताया है कि इंसान के अच्छे गुणों से उसकी तारीफ उसी तरह सब जगह होती है जैसे फूलों की खुश्बू हवा में फैलती है। आचार्य वराहमिहिर पर शोध कर रहे काशी के ज्योतिषाचार्य पं. गणेश मिश्र का कहना है कि बृहत्संहिता में बताए सूत्रों में सिर्फ 5 बातों को ही अपने व्यवहार में लाकर कोई भी इंसान आसानी से सफल और अच्छा इंसान बन सकता है। इसके लिए लोगों की बुराई, घमंड और झूठ से बचना चाहिए। वहीं, विनम्र रहना और लोगों की मदद करना चाहिए। ऐसे ही इंसान को लोग पसंद भी करते हैं।

वराहमिहिर के बृहत्संहिता ग्रंथ में 75 वें अध्याय के श्लोक -

वाल्लभ्यमायाति विहाय मानं दौर्भाग्यमापादयतेअभिमानः।
कृच्छ्रेण संसाधयतेअभिमानी कार्याण्ययत्नेन वदन् प्रियाणि॥
तेजो न तद्यत्प्रियसाहसत्वं वाक्यं न चानिष्टमसत्प्रणीतम्।
कार्यस्य गत्वान्तमनुद्धता ये तेजस्विनस्ते न विकत्थना य् ।
यः सार्वजन्यं सुभगत्वमिच्छेद्गुणान् स सर्वस्य वदेत्परोक्षम्
प्राप्नोति दोषानसतोअप्यनेकान् परस्य यो दोषकथां करोति॥
सर्वोपकारानुगतस्य लोकः सर्वोपकारानुगतो नरस्य्
कृत्वोपकारं द्विषतां विपत्सु या कीर्तिरल्पेन न सा शुभेन् ।


लोगों की मदद करते रहें
बृहत्संहिता ग्रंथ का कहना है कि प्राण और पैसों से परोपकार करना चाहिए। क्योंकि दूसरों की मदद से जो पुण्य मिलता है, वो सौ यज्ञों को करने से भी नहीं मिल पाता है। इसके साथ ही दुश्मन का मुश्किल समय हो तब भी उसकी मदद करना महान काम है। लोगों की मदद करने वाले को सभी पसंद करते हैं। ऐसा इंसान कभी परेशानियों में नहीं उलझता।

दूसरों की बुराई न करें
जो दूसरों की बुराई करता है उस पर झूठे आरोप भी लगते हैं। जिससे दूसरों का अपमान हो, ऐसी बातें नहीं बोलनी चाहिए। अपने दोस्तों की गलतियां या बुराइयों की बातें भी अकेले में करनी चाहिए। लेकिन तारीफ सबके सामने करनी चाहिए।

घमंड नहीं करें
आचार्य वराहमिहिर का कहना है कि घमंड करने वाला इंसान दुखी ही रहता है। ऐसा इंसान अपने काम मुश्किल से ही पूरे कर पाता है। सही और गलत की पहचान नहीं कर पाता है। इस कारण कई तरह की बुराई में फंस जाता है। इसलिए घमंड से दूरी बनानी चाहिए।

विनम्रता को अपनाएं
जो इंसान विनम्र होता है वो ही धैर्य से काम करता है। ऐसा इंसान गुस्से पर जीत हासिल कर पाता है। विनम्रता के कारण ही वो अच्छे और बुरे की पहचान कर पाता है। जिससे वो कभी गलत काम नहीं करता। इस कारण ऐसे इंसान को लोग पसंद करते हैं।

हमेशा सच बोलें
आचार्य वराहमिहिर ने अपने ग्रंथ में कहा है कि झूठ बोलने की आदत से इंसान परेशान रहता है। एक झूठ की वजह से किए गए सौ अच्छे कामों का फल भी खत्म हो जाता है। ऐसे इंसान को कभी सम्मान नहीं मिलता है। झूठ बोलने वाले पर कोई भरोसा नहीं करता है। इस तरह सफलता नहीं मिल सकती।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
The sutras of Acharya Varahamihira and Bhartrihari, in which the mantra of simple and successful life is hidden

पुरुषोत्तम महीने में पूजा या व्रत-उपवास नहीं कर सकते तो पेड़-पौधे लगाने से ही मिल सकता है एक यज्ञ करने जितना पुण्य

धर्म ग्रंथों में पेड़-पौधे लगाना पुण्य का काम माना गया है। ऐसा करने से कई तरह के दोषों से छुटकारा मिल जाता है। विष्णुधर्मोत्तर पुराण के मुताबिक पुरुषोत्तम महीने में पेड़-पौधे लगाने से अश्वमेध यज्ञ का फल मिलता है। वहीं मनु स्मृति में भी कहा गया है कि पेड़-पौधे लगाने से बड़ा यज्ञ करने जितना फल मिलता है। इसलिए पुरुषोत्तम महीने के दौरान पेड़-पौधे लगाना महत्वपूर्ण माना गया है।

  • काशी के ज्योतिषाचार्य और धर्म ग्रंथों के जानकार पं. गणेश मिश्र का कहना है कि भगवान विष्णु के इस महीने में पीपल, वट, और गूलर के पेड़ लगाने चाहिए। इन पेड़-पौधों को भगवान विष्णु का ही रुप माना गया है। इनके अलावा तुलसी, दूब, अशोक, आंवला, एरंड, मदार, केला, नीम, कदंब और बेल का पेड़ लगाने से भगवान विष्णु और लक्ष्मी के साथ ही अन्य देवी-देवता भी प्रसन्न होते हैं।


पीपल: पीपल को देव वृक्ष कहा जाता है। उपनिषदों में भी इसका महत्व बताया गया है। ये पेड़ सूर्य की उन किरणों को ग्रहण कर लेता है। जो पोषण देती हैं। ग्रंथों में बताया गया है कि पीपल में जड़ से ऊपर तक के तने में भगवान विष्णु का निवास है। पीपल के नीचे ही भगवान बुद्ध को ज्ञान प्राप्त हुआ था।
वट: बरगद के पेड़ में भगवान विष्णु के साथ ब्रह्माजी और शिवजी का भी वास होता है। इसलिए इस बरगद का पेड़ लगाने से हर तरह के पाप खत्म हो जाते हैं। ग्रंथों में बताया गया है कि बरगद के पेड़ को छूने और दर्शन करने से ही भगवान प्रसन्न हो जाते हैं।
गूलर: गूलर के पेड़ में भगवान विष्णु का वास माना गया है। कुछ ग्रंथों में बताया गया है कि इस पेड़ की जड़ों में ब्रह्मा और शाखाओं में भगवा शिव रहते हैं। साथ ही इस पेड़ पर शुक्र ग्रह और कुबेर का प्रभाव भी इस कारण गूलर का पेड़ लगाने और इसकी पूजा करने से सुख और समृद्धि बढ़ती है।
तुलसी: पुरुषोत्तम महीने में तुलसी का पौधा लगाने से पुण्य मिलता है। तुलसी को लक्ष्मीजी का रूप माना गया है। तुलसी के पत्तों के बिना भगवान विष्णु की पूजा भी अधूरी रहती है। इसलिए इस महीने में तुलसी का पौधा लगाने से हर तरह के पाप खत्म हो जाते हैं और पुण्य भी मिलता है।
अशोक: अशोक का पेड़ पूजनीय माना जाता है। अशोक का पेड़ लगाने और उसे सींचने से धन लाभ होता है। रामायण में बताया गया है कि सीताजी का अपहरण करने के बाद रावण ने उन्हें अशोक वृक्ष की वाटिका में ही रखा था। श्रीराम ने इसके लिए कहा है कि जो भी इस पेड़ के नीचे बैठेगा उसके सभी दुख और शोक दूर हो जाएंगे। वास्तुशास्त्र में इसे सकारात्मक ऊर्जा देने वाला पेड़ कहा गया है।
आंवला: तुलसी की तरह ये पेड़ भी पूजनीय है। सौभाग्य और समृद्धि की कामना से कार्तिक महीने में महिलाएं इस पेड़ की पूजा करती हैं। इस पेड़ में लक्ष्मीजी का वास माना जाता है। ग्रंथों में बताया गया है कि इस पेड़ की छाया में बैठकर खाना खाने से बीमारियां दूर हो जाती हैं।
बिल्व वृक्ष: बिल्व यानी बेल के पेड़ में भगवान शिव और लक्ष्मीजी का निवास होता है। ग्रंथों में बताया गया है कि इस पेड़ को दर्शन और छूने भर से ही दिनभर के जाने-अनजाने में हुए दिनभर के पाप खत्म हो जाते हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
If you cannot do puja or fast-fasting in Purushottam month, then you can get as much virtue as performing a yajna by planting trees and saplings.

2019 के टॉपर कार्तिकेय गुप्ता से जानिए पेपर सॉल्व करने की स्ट्रैटजी, साथ ही उन कॉमन मिस्टेक्स के बारे में, जो आपको बेहतर स्कोर करने से रोक सकती हैं

जेईई एडवांस 2020 परीक्षा 27 सितंबर को देश के 212 शहरों में सुबह 9 से 12 और दोपहर 2:30 से 5:30 बजे होने जा रही है। चूंकि अब परीक्षा में सिर्फ 4 दिन ही बाकी हैं। तो जाहिर है कैंडिडेट्स की तैयारी लगभग पूरी हो चुकी होगी। हालांकि, सिलेबस की तैयारी के अलावा भी कई सारी लर्निंग्स ऐसी हैं, जिन्हे परीक्षा में बेहतर स्कोर करने के लिए समझना बहुत जरूरी है।

परीक्षा हॉल में प्रवेश के बाद कुछ ऐसी गलतियां होती हैं। जिन्हें करने का मलाल आपको एग्जाम के बात होता है। ये बहुत ही कॉमन मिस्टेक हैं, जिन्हें अधिकतर स्टूडेंट्स करते ही हैं। आप इन गलतियों से बच सकते हैं, जेईई एडवांस परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन करने वाले कैंडिडेट्स के अनुभवों के जरिए। आपके इसी काम को आसान बनाने के लिए हमने बात ही है जेईई एडवांस - 2019 के टॉपर कार्तिकेय गुप्ता से। वे बता रहे हैं कि पेपर सॉल्व करने की कौन-सी स्ट्रैटजी आपके लिए बेहतर साबित होगी। और किन गलतियों से आपको बचना है।

23 सितंबर से 26 सितंबर तक क्या करें ?

हर यूनिट को एक बार रिवाइज कर लें। क्योंकि कई बार एग्जाम में सवाल को देखकर एकदम दिमाग में यह क्लिक नहीं हो पाता कि ये किस टॉपिक से पूछा गया है। इसलिए आखिर समय में हर यूनिट पर एक नजर डालना जरूरी है। मॉक टेस्ट में कम मार्क्स आने से अगर आपको टेंशन होती है, तो इन आखिर के 4 दिनों में मॉक टेस्ट न दें। क्योंकि इस समय माइंड को फ्रेश और तनावमुक्त रखना बहुत जरूरी है।

एग्जाम हॉल में प्रवेश के बाद...

कॉन्सनट्रेशन बनाए रखने के लिए आपका कंफर्टेबल होना बहुत जरूरी है। मामूली दिखने वाली समस्याएं भी परीक्षा के दौरान कैंडिडेट का ध्यान भटकाती हैं। इससे बचने के लिए 3 पॉइंट की इस चेक लिस्ट को फॉलो करें

  • जहां आप बैठे हैं वहां हद से ज्यादा कूलिंग या ज्यादा गर्मी न हो
  • सीट 3 घंटे कंफर्टेबल बैठने लायक हो
  • सीट के पास कोई विंडो नहीं होनी चाहिए, जिससे वॉइस डिस्टरबेंस आ रहा हो

पेपर मिलने के बाद के 15 मिनट

पेपर शुरू होने से 30 मिनट पहले कैंडिडेट को कम्प्यूटर अलॉट हो जाता है। क्वेश्चन पेपर 15 मिनट पहले मिलता है। यही वह समय है, जब आपको पेपर सॉल्व करने की स्ट्रैटजी बनानी है। सारे सेक्शन पर एक नजर डालें। फिर तय करें कि सबसे आसानी से आप पेपर के किस हिस्से को सॉल्व कर सकते हैं। उसी से शुरूआत करें।

मैथ्स से शुरुआत करना बैड आइडिया हो सकता है

जेईई एडवांस में मैथ्स के सवाल अन्य सेक्शन की तुलना में ज्यादा समय लेते हैं। इसलिए मैथ्स से शुरुआत करना बैड आइडिया हो सकता है। क्योंकि लंबा समय बीतने के बाद भी कम सवाल हल हो पाते हैं, तो आप पैनिक होंगे। इस पैनिक से बचने के लिए अधिकतर स्टूडेंट्स पहले केमिस्ट्री को अटेम्पट करना ही पसंद करते हैं। यही सही भी है।

श्योर रहें, कि कौन-सा टॉपिक मजबूत है और कौन- सा कमजोर

हर कैंडिडेट की कुछ वीकनेस होती हैं और कुछ स्ट्रेंथ। चूंकि अब पेपर में सिर्फ 4 दिन बचे हैं तो ये इस बात को लेकर पैनिक होने का समय नहीं है कि कुछ टॉपिक आप अच्छे से कवर नहीं कर पाए। स्थिति को स्वीकार करते हुए श्योर रहें कि आपका कौन-सा टॉपिक मजबूत है और कौन-सा कमजोर। इससे पेपर अटेम्पट करते वक्त आपको तय करने में आसानी होगी कि किन सवालों को पहले सॉल्व करना है।

रीडिंग मिस्टेक और अटेंटिव न रहने से होता है बड़ा नुकसान

जाहिर है स्टूडेंट्स का पूरा फोकस सवालों को हल करने पर ही रहता है। लेकिन, जेईई एडवांस के पेपर में कई बार ऑप्शन कन्फ्यूजिंग होते हैं। इसलिए सवाल को पढ़ना भी उतना ही जरूरी हो जाता है, जितना उसे सॉल्व करना। छोटी-छोटी रीडिंग मिस्टेक्स भी आपके स्कोर का बड़ा नुकसान कर सकती हैं। सवाल को ठीक से पढ़ना और सवाल को न भूलना बहुत जरूरी है। इसे दो उदाहरणों से समझिए।

एक नजर में एग्जाम पैटर्न

जेईई एडवांस में कैंडिडेट्स को दो पेपर सॉल्व करने होते हैं। पेपर-1 और पेपर-2 । हर पेपर के लिए कैंडिडेट को 3 घंटे का समय दिया जाएगा। पेपर-1 के बाद 2 घंटे का ब्रेक होगा। सभी सवाल फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ्स पर आधारित होंगे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
JEE Advance 2020 : Get to know the paper solving strategy from 2019 topper Karthikeya Gupta, as well as the common mistakes that can stop you from scoring better