JivikaToday

Blog Archive

Search This Blog

Recent PostAll the recent news you need to know

घरेलू नहीं इन अनोखे तरीकों से पाएं ठंड और फ्लू से छुटकारा, घर बैठे ही छूमंतर हो जाएगी सर्दी

Get-rid-of-cold-and-flu-through-these-unique-methods

सर्दियां दस्तक दे चुकी हैं. तापमान में गिरावट आती जा रही है. ऐसे मौसम में अक्सर लोगों को सर्दी-जुकाम, खांसी जैसी समस्याएं हो जाती हैं. नाक बहना, गले में दर्द होना, सिर दर्द रहना जैसी परेशानियां आमतौर पर लोगों को बहुत परेशान करती है, जिससे बचने के लिए लोग घरेलू उपाय करते हैं. लेकिन आप कुछ विशेष नुस्खे आजमाकर इन सारी परेशानियों से बच सकते हैं.

बढ़ा दे प्रोटीन 

Get-rid-of-cold-and-flu-through-these-unique-methods

ऐसे मौसम में प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों का ज्यादा से ज्यादा सेवन करना चाहिए. इससे सर्दी-खांसी के रोगाणु दूर करने में मदद मिलती है.

मसाज से मिलेगी राहत 

ठंड के मौसम में अगर आप मसाज लेते हैं तो इससे इम्यून सिस्टम मजबूत होता है. साथ ही सर्दी-खांसी जैसी समस्या से भी छुटकारा मिलता है. लेकिन अगर ज्यादा परेशानी है तो डॉक्टर को जरूर दिखाना चाहिए.

गीले जुराब 

Get-rid-of-cold-and-flu-through-these-unique-methods

सर्दियों के मौसम में आपको गीले जुराब पहनने से भी फायदा हो सकता है. गीले मौजे पहनकर सोना इम्यूनिटी इनहैंसिंग हाइड्रोथेरेपी की तरह काम करता है. इसके लिए आप मौजों को ठंडे पानी में भिगोए और पहन ले.

कच्चे प्याज का करें सेवन 

सर्दियों में कच्चा प्याज खाने से आपको सर्दी-खांसी, जुकाम में काफी फायदा मिलता है. प्याज में एंटीमाइक्रोबियल्स गुण होते हैं, जिससे हमारा इम्यून सिस्टम मजबूत होता है.

ग्रीन, सफेद और ब्लैक टी 

Get-rid-of-cold-and-flu-through-these-unique-methods

सर्दियों के मौसम में अगर आप अदरक वाली चाय के अलावा ग्रीन, ब्लैक और सफेद टी पीते हैं तो और भी ज्यादा फायदा होता है.

यह भी पढ़ें - 

क्या आप भी लेती हैं गर्भनिरोधक गोलियां, तो हो जाएं सावधान

अनचाहे गर्भ से बचने के लिए महिलाएं तरह-तरह के उपाय करती हैं. लेकिन कोई भी उपाय करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए. महिलाएं अनचाहे गर्भ से बचने के लिए गर्भनिरोधक गोलियां खाती हैं. लेकिन इससे कई तरह के नुकसान होते हैं.


एक नई स्टडी में यह पता चला है कि गर्भनिरोधक गोलियां लेने वाली किशोरियों में अवसाद से जुड़े लक्षणों का खतरा बढ़ जाता है. 16 से 25 साल की लड़कियों के ऊपर शोध किया गया, जिसमें पता चला कि गर्भनिरोधक गोलियां लेने वाली लड़कियों में अन्य की अपेक्षा ज्यादा अवसाद से जुड़े लक्षण सामने आए हैं.


शोध में मिली जानकारी के मुताबिक, 16 साल की लड़कियों में अवसाद के लक्षण पाए गए. अवसाद को लेकर किए गए सर्वे में ज्यादा रोने, सोने, खाने से जुड़ी, आत्महत्या करने, उदासी जैसी कई समस्याएं सामने आई. इतना ही नहीं आगे चलकर इस वजह से किशोरियों को आगे चलकर मां बनने में भी परेशानी आ सकती है.


ज्यादा गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन करने से मां बनने की क्षमता पर भी असर पड़ता है. कई बार इस वजह से महिलाओं को बांझपन का सामना भी करना पड़ सकता है. गर्भनिरोधक गोलियों का ज्यादा सेवन करने से कई और तरह के खतरे भी महिलाओं को होते हैं. अगर महिलाएं ज्यादा लंबे समय तक इन गोलियों का इस्तेमाल करती हैं तो यह उनकी सेहत पर बहुत बुरा असर डाल सकता है.

यह भी पढ़ें -


वीरान रेगिस्तान में मिला विशालकाय कछुए का जीवाश्म, यह आकार में एक कार के बराबर

आखिर बढ़ती उम्र के साथ क्यों सिकुड़ने लगती हैं महिलाएं, जाने वजह

आपने अक्सर देखा होगा जैसे-जैसे महिलाओं की उम्र बढ़ती जाती है, उनका कद छोटा लगने लगता है और वह सिकुढ़ी हुई सी नजर आती हैं. लेकिन ऐसा क्यों होता है आपने सोचा है. यह असल में ऑस्टियोपोरोसिस का संकेत है. यानी कि बोन्स कमजोर हो जाती है, जिस वजह से वह सिकुड़ने लगती हैं.

why do women start shrinking with increasing age

क्यों छोटा होने लगता है कद 

उम्र बढ़ने के साथ-साथ कद सिकुड़ने लगता है. यानी कि आपकी बैक बोन में अंतराल खत्म हो जाता है या कमजोर होकर सिकुड़ने लगती हैं. असल में बैक बोन एक स्प्रिंग की तरह होती है. यह जब कमजोर होकर टूटती है तो इनके बीच का अंतराल खत्म हो जाता है, जिससे व्यक्ति का कद सिकुड़ने लगता है. यह बैक बोन की गंभीर चोट का संकेत हो सकता है.

why do women start shrinking with increasing age

इस बारे में आपको पता नहीं चलेगा. बैक बोन के टूटने का पता नहीं चलता. जब तक वह किसी नस को ना दबा रही हो. नहीं तो दर्द नहीं होता.  विज्ञान की भाषा में इसे ऑस्टियोपोरोसिस कहा जाता है. इसका अर्थ है कि बढ़ती उम्र के साथ हड्डियां कमजोर होने लगती हैं. लेकिन आजकल कम उम्र के लोग भी इसकी गिरफ्त में आने लगे हैं.

महिलाओं को रहता है ज्यादा खतरा 

why do women start shrinking with increasing age

पुरुषों के मुकाबले महिलाओं की बोन्स जल्दी खराब होने लगती हैं. इसीलिए महिलाओं को अपनी हेल्थ पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए. बढ़ता हुआ वजन बोन्स पर बहुत हानिकारक प्रभाव डालता है.

इन बातों का रखें ध्यान 

जन्म से लेकर किशोरावस्था तक ही हमारी बोन्स का विकास होता है. इसीलिए इस दौरान अच्छा खाना-पीना चाहिए. विटामिन डी, कैल्शियम, प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट युक्त चीजों का सेवन करना चाहिए. डेली वर्कआउट पर ध्यान देना चाहिए. वजन को कंट्रोल करना चाहिए.

यह भी पढ़ें -

लाल और काली मिर्च की तरह ही फायदेमंद है सफेद मिर्च, जानें इसके सेवन के फायदे

 White pepper is beneficial just like red and black pepper

आपने लाल, काली और हरी मिर्च के बारे में सुना होगा. शायद आप सफेद मिर्च के बारे में नहीं जानते होंगे. यह छोटी फली जैसी होती है, जिसे कच्चा तोड़कर कुछ समय पानी में भिगोया जाता है ताकि उसकी ऊपरी परत मुलायम होकर हट जाए. सफेद मिर्च में विटामिन, एंटीऑक्सीडेंट व फ्लेवोनॉयड भरपूर मात्रा में होते हैं, जिससे हमें सेहत संबंधी कई बीमारियों से मुक्ति मिल जाती है.

मांसपेशियों की सूजन व दर्द को करें दूर 

 White pepper is beneficial just like red and black pepper

अगर आपको जोड़ों के दर्द की समस्या है तो सफेद मिर्च का सेवन करें. इसमें कैप्सेसिमन और फ्लेवोनॉयड जैसे तत्व पाए जाते हैं, जो सूजन और दर्द को दूर करते हैं.

खांसी से दिलाए राहत 

सर्दी-खांसी होने पर आप सफेद मिर्च पाउडर को शहद के साथ खाएं. ऐसा करने से आपको सर्दी-खांसी, जुखाम, बुखार आदि से मुक्ति मिल जाती है.

बॉडी कैंसर से बचाए 

 White pepper is beneficial just like red and black pepper

अगर आप नियमित रूप से सफेद मिर्च खाते हैं तो यह आपकी बॉडी को कैंसर जैसी भयानक बीमारी से बचाता है. इसमें कई ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो कैंसर सेल्स को पनपने नहीं देते.

हार्ट अटैक से बचाव 

अगर आप नियमित रूप से सफेद मिर्च का सेवन करते हैं तो इससे आपके शरीर के विषैले तत्व बाहर निकलते रहते हैं, जिससे हृदय संबंधी बीमारियां होने का खतरा नहीं रहता है.

शुगर करें कंट्रोल 

 White pepper is beneficial just like red and black pepper

शुगर के मरीजों के लिए सफेद मिर्च का सेवन बहुत फायदेमंद रहता है. ऐसे लोगों को हर रोज मेथी के बीज, हल्दी और सफेद मिर्च पाउडर को एक गिलास गर्म दूध में मिलाकर पीना चाहिए. इससे शुगर लेवल कंट्रोल होता है.

यह भी पढ़ें -


आखिर किसकी है ये परछाई? 75 साल से बना हुआ है रहस्य

कितने महीने तक चलाते हैं आप अपना टूथब्रश, जानें कब बदलना चाहिए

आजकल लोग मॉडर्न होने के चक्कर में तरह-तरह की चीजों का इस्तेमाल तो करते हैं. लेकिन उनके प्रति सावधानी नहीं बरतते. हर कोई सुबह उठकर सबसे पहले अपने दांत साफ करता है, जिसके लिए टूथब्रश का इस्तेमाल किया जाता है. लेकिन बहुत से लोग ऐसे हैं, जो महीनों तक एक ही ब्रश इस्तेमाल करते रहते हैं. इससे सेहत पर बुरा असर पड़ता है. टूथब्रश में बैक्टीरिया होते हैं, जो नजर नहीं आते और हमारे बीमार करने के लिए काफी होते हैं. टूथब्रश का ज्यादा लंबे समय तक इस्तेमाल करने से आपके दांतों पर भी असर पड़ता है.

 For how many months do you run your toothbrush

पानी में ज्यादा ना भिगोएं 

लोग टूथब्रश करते समय उसको पानी में भिगोते हैं. लेकिन ऐसा करने से टूथब्रश के तार पतले हो जाते हैं और दांत सही से साफ नहीं हो पाते हैं.

बाथरूम के अंदर ना रखें 

 For how many months do you run your toothbrush

अगर आप अपने बाथरूम में टूथब्रश को रखते हैं तो इससे जो टॉयलेट सीट पर हानिकारक कीटाणु होते हैं, वह हवा में फैल जाते हैं और यह आपके टूथब्रश पर जाकर चिपक सकते हैं, जिससे आपके टूथब्रश की वजह से आपके शरीर में बीमारियां हो सकती हैं.

टूथब्रश होल्डर को रखे साफ 

टूथब्रश होल्डर को हमेशा साफ रखें. कुछ दिनों के अंतराल पर उसकी सफाई करते रहे, ताकि वहां बैकटीरिया आदि ना पनप सके और आपको बीमारियां ना फैले.

3 महीने में बदल दें टूथब्रश

 For how many months do you run your toothbrush

अमेरिकन डेंटल एसोसिएशन के मुताबिक, हर व्यक्ति को 3 महीने तक अपना टूथब्रश इस्तेमाल करना चाहिए और 3 महीने बाद उसे जरूर बदल देना चाहिए. अगर आप छह-सात महीने तक एक ही टूथब्रश इस्तेमाल करते हैं तो इससे आपके दांत खराब होने के साथ-साथ सेहत को भी नुकसान हो सकता है.

यह भी पढ़ें - 

सेहत के लिए सबसे बेहतर है कच्ची घानी का तेल, डाइटिशियन भी देते हैं खाने की सलाह

आपने कच्ची घानी के बारे में सुना होगा. लेकिन क्या आप जानते हैं कि कच्ची घानी तेल क्या होता है. दरअसल यह तेल कुकिंग के लिए सबसे बेहतर होता है. यह बहुत ही हेल्दी होता है. इसका सेवन करने से आपको किसी तरह का कोई नुकसान नहीं होता. कच्ची घानी तेल तिलहनों को बहुत कम तापमान पर गर्म करके तैयार किया जाता है, जिससे इसके पोषक तत्व नष्ट नहीं होते हैं.

इन तिलहनों से बनता है कच्ची घानी 


कच्ची घानी का तेल सरसों, तिल, मूंगफली, राई इत्यादि तिलहन से प्राप्त होता है. इसमें अधिक मात्रा में गंध और चिपचिपाहट होती है, जिससे यह बहुत लाभदायक होता है.

कैसे बनता है कच्ची घानी तेल 


चक्की या घानी में पारंपरिक तरीके से बनाया गया तेल ही कच्ची घानी तेल कहा जाता है. इस तेल को पहले कोल्हू द्वारा तैयार किया जाता था, जिसमें पशु को बांधकर चक्की चलती थी और बीजों को डालकर उसमें पीसा जाता था और तेल निकलता था. लेकिन आजकल मशीनें आ गई है. मशीनों द्वारा बीजों को पीसकर तेल निकाला जाता है, जिसे रिफाइंड नहीं किया जाता. इसी वजह से यह हेल्दी होता है..

क्यों होता है सबसे अच्छा 


इस तेल में फैटी एसिड, प्रोटीन, omega-3, विटामिन जैसे कई तत्व मौजूद होते हैं. इसी वजह से यह तेल सबसे अच्छा होता है, क्योंकि इसको निकालते समय तापमान ज्यादा नहीं होता. इसी वजह से इस तेल के पोषक तत्व बरकरार रहते हैं. इस तेल में एंटी ऑक्सीडेंट तत्व बहुत मात्रा में होते हैं. इस तेल में बना खाना खाने से किसी तरह का कोई नुकसान नहीं होता. इस तेल का इस्तेमाल अचार बनाने में भी किया जाता है और इस तेल के इस्तेमाल से बने अचार लंबे समय तक सुरक्षित रहते हैं.

क्या एंटी पॉल्यूशन सब्जी है ब्रोकली, जाने इसके सेवन से होने वाले फायदे

दिल्ली में वायु प्रदूषण बहुत ऊंचे स्तर पर है. इसी वजह से दिल्ली की हवा में सांस लेना भी लोगों के लिए मुश्किल हो गया है. प्रदूषण की वजह से लोगों को आंखों में जलन, सांस लेने में तकलीफ, सर्दी-जुकाम जैसी समस्याएं हो रही हैं. ऐसी स्थिति में आप सही खुराक और डिटॉक्स के जरिए प्रदूषण से खुद को बचा सकते हैं. घरेलू नुस्खों को आजमाकर भी आप काफी हद तक प्रदूषण से होने वाली बीमारियों का सामना कर सकते हैं. आप एयर प्यूरीफायर और मास्क का इस्तेमाल करके भी खुद को सुरक्षित रख सकते हैं.



हाल ही में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने कहा कि अपनी डाइट में एंटी ऑक्सीडेंट युक्त फलों और सब्जियों को शामिल करें, जिससे आपको प्रदूषण से होने वाले नुकसान से राहत मिलेगी. ऐसी ही एक सब्जी है, हरी फूलगोभी जिसे ब्रोकली कहते हैं. ब्रोक्ली का सेवन बहुत फायदेमंद होता है.

क्यों मददगार है ब्रोकली 

ब्रोकली

ब्रोकली एक सुपरफूड है जिसमें बहुत ज्यादा फाइबर पाया जाता है. इसके अलावा ब्रोकली अच्छे से पच जाती है और टॉक्सिंस से लड़ने में भी मदद करती है. इसके सेवन से हमें प्रदूषित हवा, पानी और कैंसर कारक तत्वों से भी रक्षा मिलती है.

कैंसर से बचाव 

ब्रोकली में एंटीऑक्सीडेंट, विटामिंस, बीटा कैरोटीन, बी कांपलेक्स, फोलिक एसिड, मिनरल्स पाए जाते हैं. यह सारी चीजें हमारे शरीर के लिए फायदेमंद है. इसमें पाए जाने वाले गुणकारी तत्व कैंसर जैसी बीमारियों से बचाते हैं.

एंटीपॉल्यूशन सब्जी है 

ब्रोकली

ब्रोकली एंटीपॉल्यूशन सब्जी कही जाती है, क्योंकि यह हमें प्रदूषण से होने वाली तमाम बीमारियों से बचाती है. इसमें फोटोकेमिकल पाए जाते हैं जो शरीर में जाकर पॉल्यूशन से होने वाले नुकसान की भरपाई करते हैं.

सुबह-सुबह आपके चेहरे और होठों पर भी रहती है सूजन, जानें इसके पीछे की वजह

अक्सर हमने कई बार देखा है कि जब हम सुबह उठते हैं तो हमारे चेहरे पर हल्की सूजन नजर आती है जो कुछ समय बाद खुद गायब हो जाती है. लेकिन ऐसा क्यों होता है. यह सब सेल्स की वजह से होता है, जिससे हमारा चेहरा सूजा हुआ सा लगता है. हालांकि सबके चेहरे पर सूजन आने की यही वजह नहीं हो सकती. इसके पीछे कुछ और कारण भी हो सकते हैं.


साइनस में संक्रमण होने की वजह से 

साइनस में अगर संक्रमण है तो इस वजह से भी चेहरे पर सूजन आ सकती है. गलत खानपान की वजह से लोगों को साइनस की बीमारी हो जाती है, जिससे ऐसा हो सकता है. साइनस बहुत ही गंभीर बीमारी है, जिसमें नाक और चेहरे के बीच में मौजूद एक साइनस नली में संक्रमण हो जाता है. इस वजह से चेहरे पर सूजन आ जाती है.

एलर्जी 


अगर आपको किसी तरह की एलर्जी हो गई है तो आपके चेहरे या अन्य अंगों पर सूजन आ सकती है. इसीलिए आपको उन चीजों का इस्तेमाल करने से बचना चाहिए.

हार्ट डिजीज की वजह से 

अगर आपको ह्रदय संबंधी कोई बीमारी है तो इस वजह से भी चेहरे पर सूजन आ सकती है. ऐसे लोगों को ज्यादा मात्रा में नमक नहीं खाना चाहिए, क्योंकि इसमें सोडियम होता है.

पेट संबंधी बीमारियों की वजह से 


अगर आपको पेट से जुड़ी हुई कोई बीमारी है तो इस वजह से भी सूजन आ सकती है, क्योंकि गुर्दे-किडनी में मौजूद दूषित पदार्थ बाहर नहीं निकल पाते, जो शरीर में स्थित एक झिल्ली पर इकट्ठे हो जाते हैं. इस वजह से सुबह चेहरे पर सूजन नजर आ सकती है.

सनी लियोनी ने महेश भट्ट से मांगे थे 10 लाख डॉलर, रकम सुन डायरेक्टर के उड़े थे होश...



बॉलीवुड में महेश भट्ट की फिल्म जिस्म में एंट्री करने वाली सनी लियोनी फिल्म इंडस्ट्री में भी अपनी जगह बना लेंगी किसी को नहीं पता था. आज सनी अपना 38वां बर्थडे सेलिब्रेट कर रही हैं. सनी का बॉलीवुड डेब्यू का किस्सा काफी मजेदार है. महेश भट्ट बहुत पहले ही सनी के साथ काम करना चाहते थे और उन्होंने अपनी फिल्म 'कलयुग' सनी को ऑफर की. सनी ने तब महेश भट्ट से 10 लाख डॉलर मांगे थे और यह रकम सुन महेश भट्ट ने सनी को उस फिल्म में लेने का इरादा छोड़ दिया. बाद में सनी फिल्म 'जिस्म-2' में महेश भट्ट के साथ काम किया और बॉलीवुड में उनके लिए प्रोजेक्ट्स की लाइन लग गई. 

unknown-facts-about-sunny-leone-on-her-birthday

सनी लियोन का जन्म 13 मई, 1981 को कनाडा के ओंटारियो में एक सिख पंजाबी परिवार में हुआ था. उनका असली नाम करनजीत कौर वोहरा है. साल 1996 में सनी का परिवार दक्षिणी कैलिफोर्निया में जाकर बस गया. सनी ने 1999 में हाईस्कूल पास कर कॉलेज में दाखिला लिया. बचपन में सनी को हॉकी खेलना बेहद पसंद था और अक्सर वह लड़कों के साथ हॉकी खेलती थीं. उन्हें आइस स्केटिंग भी बहुत पसंद है.

मॉडलिंग, बेकरी में काम और फिर ऐसे हुई पोर्न इंडस्ट्री में एंट्री 

unknown-facts-about-sunny-leone-on-her-birthday

सनी ने पोर्न इंडस्ट्री में कदम रखने के पहले एक बेकरी और एक टेक्स एंड रिटायरमेंट फर्म में भी काम कर चुकी हैं. सनी को मॉडलिंग करने की सलाह उनके एक क्लासमेट ने दी. एक फोटोग्राफर से मुलाकात होने के बाद उन्होंने पेंटहाउस मैगजीन के लिए उन्होंने पोज दिया. इसके बाद उनके पास प्रस्तावों की झड़ी लग गई. सनी को मैगजीन के लिए न्यूड पोज देने में काफी स्कोप नजर आया. पैसा और देश-विदेश घूमने का मौका भी बहुत था. इसलिए उन्होंने इस दिशा में कदम बढ़ाए. साल 2003 में सनी ने विविड एंटरटेनमेंट के साथ तीन साल का करार कर हार्डकोर पोर्नोग्राफी की दुनिया में कदम रखा. सनी की पहली फिल्म का नाम भी 'सनी' था. पोर्न इंडस्ट्री में कदम रखते ही उन्होंने ऐलान किया था कि वह लेस्बियन सीन ही करेंगी. 

बॉलीवुड की कई फिल्में की अपने नाम 

unknown-facts-about-sunny-leone-on-her-birthday

फिल्म मेकर महेश भट्ट ने रियलिटी टीवी शो 'बिग बॉस' के में सनी को अपनी फिल्म की कहानी सुनाई. यह कहानी सनी को बेहद पसंद आई. इसके बाद उन्होंने 'जिस्म-2' में लीड रोल निभाया. सनी ने साल 2014 में बनी फिल्म 'हेट लव स्टोरी' में आइटम गीत 'गुलाबी होंठ..' में भी काम किया. 'जिस्म-2' के बाद सनी ने 'जैकपॉट', 'रागिनी एमएमएस 2', 'एक पहेली लीला', 'कुछ कुछ लोचा है' और 'मस्तीजादे' जैसी फिल्मों में एक्टिंग की. इसके अलावा, 'शूटआउट एट वडाला', 'हेट स्टोरी 2', 'बलविंदर फेमस हो गया' और 'सिंह इज ब्लिंग' जैसी फिल्मों में उन्होंने अतिथि भूमिका निभाई. सनी लियोन ने लगभग 35 एडल्ट फिल्म बतौर अभिनेत्री और 25 फिल्मों का निर्देशन किया है. वह कहती हैं कि उन्हें पुरस्कार पाने का कोई लालच नहीं है, वह सिर्फ अपने फैन्स का प्यार चाहती 

यह भी पढ़ें -

अरबों की संपत्ति के मालिक अमिताभ बच्चन ने भरा है करोड़ों का टैक्स, शाहरुख भी रह गए पीछे

अमिताभ बच्चन बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री के सबसे बड़े सुपरस्टार है। इन्होने अपने करियर मे कई बेहतरीन फिल्मों मे काम किया है, और पिछले लगभग 40 सालों से अमिताभ बच्चन बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री पर राज कर रहे है। अपने करियर मे अमिताभ बच्चन ने अच्छी फिल्मों के साथ-साथ रियल लाइफ मे भी कई बेहतरीन काम किए है।


हाल ही मे अमिताभ बच्चन ने बिहार मे मुजफ्फरपुर के 2084 किसानों के कर्ज के पैसे अदा किए थे, साथ ही उन्होने पुलवामा अटैक मे शहीदों के परिवारजनों को 10-10 लाख रुपए भी दिए थे। इसके अलावा भी अमिताभ बच्चन कई बड़े काम कर चुके है।

amitabh bachchan
लाइव हिंदुस्तान डॉट कॉम की रिपोर्ट के मुताबिक अमिताभ बच्चन ने वित्त वर्ष 2018-19 के लिए 70 करोड़ रुपए टैक्स के रूप मे जमा किए है, और इस रिपोर्ट मे दावा किया गया है कि 70 करोड़ का टैक्स चुकाने के बाद अमिताभ बच्चन बॉलीवुड मे सबसे ज्यादा टैक्स जमा करने वाले अभिनता बन चुके है, और इस मामले मे उन्होने शाहरुख खान और सलमान खान जैसे अमीर अभिनेताओं को भी पीछे छोड़ दिया है।

amitabh bachchan
amitabh bachchan
आपको बता दे कि अमिताभ बच्चन के पास लगभग 400 मिलियन डॉलर की संपत्ति है, जो भारतीय मुद्रा के हिसाब से करीब 27 अरब रुपए होते हैं।
amitabh bachchan
इनकी आने वाली फिल्मों के बारे मे बात करें, तो अमिताभ बच्चन इस समय अपनी आने वाली फिल्म 'तेरा यार हीं मैं' मे काम कर रहे है। इसके अलावा वो इस साल फिल्म 'ब्रह्मास्त्र' मे रणबीर कपूर और आलिया भट्ट के साथ दिखाई देंगे।

यह भी पढ़ें -

पहली पत्नी को 10 महीने और दूसरी पत्नी को 2 साल मे दिया था तलाक, तीसरी पत्नी के साथ है खुश

बॉलीवुड अभिनेताओं की शादी की खबरें अक्सर सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बनी रहती है। कई ऐसे बॉलीवुड सितारे है, जो दो या उससे अधिक शादियां कर चुके है। आज हम आपको एक ऐसे बॉलीवुड एक्टर के बारे मे बताएंगे, जो अपने करियर मे अपनी फिल्मों से ज्यादा अपनी शादियों को लेकर चर्चा मे बना रहता है।


इस एक्टर का नाम है करण सिंह ग्रोवर, जो बॉलीवुड 'अलोन' और 'हेट स्टोरी 3' जैसी फिल्मों मे काम कर चुके है। फिल्मों के अलावा करण सिंह ग्रोवर ने कई बेहतरीन टीवी सीरियल मे भी काम किया है। इन्होने अपने टीवी करियर की शुरुआत साल 2004 मे 'कितनी मस्त है जिंदगी' से की थी, और अब टीवी इंडस्ट्री के जाने माने अभिनेता बन चुके है।


अपने करियर मे करण सिंह ग्रोवर अपने काम से ज्यादा अपनी रियल लाइफ प्रेम कहानियों की वजह से चर्चा मे रहे है। इन्होने अब तक 3 शादियां की है। टीवी एक्ट्रेस श्रद्धा निगम से 2 दिसंबर 2008 को इन्होने पहली शादी की थी। यह रिश्ता ज्यादा दिनों तक नही चला, और लगभग 10 महीने बाद ही 10 अक्टूबर 2009 को इन दोनों का तलाक हो गया।


श्रद्धा निगम से अलग होने के बाद करण सिंह ग्रोवर ज्यादा दिनों तक सिंगल नही रहे। 9 अप्रैल 2012 को इन्होने एक और टीवी एक्ट्रेस जेनिफर विंगेट से शादी कर ली। इन दोनों का रिश्ता भी ज्यादा दिनों तक नही चला, और लगभग 2 साल बाद 2014 मे ही इनका तलाक हो गया। साल 2014 मे जेनिफर विंगेट से अलग होने के बाद करण सिंह ग्रोवर की जिंदगी मे बिपाशा बासु की एंट्री हुई। इन दोनों ने एक साथ साल 2015 मे रिलीज हुई फिल्म 'अलोन' मे काम किया था। दोनों मे प्यार हो गया, और 30 अप्रैल 2016 को इन दोनों ने शादी कर ली। बिपाशा बासु, करण सिंह ग्रोवर की तीसरी पत्नी है, और दोनों एक साथ बहुत खुश है।

यह भी पढ़ें -


दुनिया का सबसे अनोखा नाइट क्लब, जहां संस्कृत गीतों पर थिरकते हैं लो

नींद पूरी ना लेना ही नहीं बल्कि बॉडी में इन 4 चीजों की कमी से भी हो जाते हैं डार्क सर्कल



आंखें चेहरे का अभिन्न अंग हैं। हेल्‍दी और सुंदर आंखें चेहरे की ख़ूबसूरती में चार चांद लगा देती हैं। लेकिन कुछ महिलाओं के आंखों की आस-पास की त्‍वचा का कलर बदल कर डार्क हो जाता है, जिसे हम डार्क सर्कल के नाम से जानते हैं। डार्क सर्कल को लेकर महिलाएं काफी परेशान रहती हैं और कुछ महिलाओं का मानना है कि नींद पूरी ना होने या कम नींद लेने से डार्क सर्कल होते हैं, लेकिन यह पूरी तरह से सही नहीं है।

नींद पूरी ना होना अकेली वजह नहीं है। इसके और कई कारण भी हो सकते हैं जिनके बारे में आपको जानकारी नहीं है। जी हां आज के समय में डार्क सर्कल महिलाओं की मुख्य समस्या बन गई है। जिसे दूर करने के तरह-तरह के उपाय तो वह अपनाती हैं लेकिन इनके सही कारणों के बारे में नहीं जानती हैं। अगर महिलाएं इसके सही कारण जान जाएंगी तो समस्‍या से निजात पाने में बहुत हेल्‍प मिलेगी। आइए डार्क सर्कल के कारणों के बारे में जानें।

आयरन की कमी 

बॉडी में आयरन की कमी आपके डार्क सर्कल के लिए जिम्‍मेदार हो सकते हैं। जी हां बॉडी में आयरन की कमी से त्वचा के सेल्स को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल पाता। जिसके कारण आंखों के आस-पास डार्क सर्कल हो जाते है। जो महिलाएं एनीमिया की शिकार होती हैं और बॉडी में आयरन की मात्रा बहुत कम होती है उनके आंखों के नीचे की त्वचा बेजान हो जाती है। इस समस्या से निजात पाने के लिये आप अपनी डाइट में हरी पत्तेदार सब्ज़ियां, पालक, बीन्स, दाल, नट्स, ब्राउन राइस, गेहूं, ड्राई फूट्स को शमिल करें। इनका सेवन करने से आपकी बॉडी में आयरन की कमी पूरी होगी। 

विटामिन सी

ज्‍यादातर महिलाओं को लगता हैं कि बॉडी में विटामिन सी की कमी से हम सर्दी-जुकाम का शिकार हो जाते हैं लेकिन ये कमी डार्क सर्कल का कारण भी बनती है। विटामिन सी त्वचा का लचीलापन बनाये रखने में हेल्‍प करता है और ये ब्लड वेसल्स को मजबूत करके ये सुनिश्चित करता है कि आंखों के आसपास की स्किन हेल्‍दी रहे। विटामिन सी त्वचा की रंगत को हल्का भी करता है। आप सिट्रस फल, नींबू, आलू, टमाटर, पालक, फूलगोभी, ब्रोकली से विटामिन सी की कमी को पूरा कर सकती हैं।

यह भी पढ़ें -इस देश में मनाया जाता है अजीबोगरीब त्योहार, भूतों और कंकालों का रूप धारण करते हैं लोग

विटामिन के 

स्किन केयर में जिन विटामिन का इस्तेमाल किया जाता है उनमें विटामिन के काफी अहम है। इस विटामिन का सबसे प्रमुख काम डार्क सर्कल को ठीक करना ही है। जब शरीर में विटामिन के की कमी होती है तब आंखों के आसपास की जगह की केपेलेरिस डैमेज होने लगती है जिसके कारण डार्क सर्कल आने लगते है। विटामिन के की कमी को पूरा करने के लिए अपनी डाइट में हरी पत्तेदार सब्ज़ियों, पालक, फूलगोभी, ब्रोकली, पत्तागोभी, मछली, मीट और अंडों आदि को शामिल करें।

यह भी पढ़ें - 


दुनिया के कुछ रोचक और हैरान करने वाले तथ्य, शायद ही जानते होंगे आप

19 साल तक पति से अलग रहने को मजबूर हुई थी कपूर खानदान की ये बहू, देखें शादी की तस्वीरें



70-80 के दशक की एक्ट्रेस बबीता हरि शिवदासानी का जन्म 20 अप्रैल 1947 को मुंबई में हुआ था। बबीता के पिता हरी शिवदासानी भी अपने जमाने के मशहूर एक्टर थे। इतना ही नहीं बबीता रिश्ते में जानी मानी एक्ट्रेस साधना की कजन थी। बबीता का परिवार मूल रूप से पाकितान से ताल्लुक रखता है। हालांकि बंटवारे के समय उनका परिवार भारत आकर बस गया था। बबीता ने रणधीर कपूर से शादी की थी। लेकिन कपूर खानदान की ये बहू 19 साल तक पति से दूर रहने को मजबूर हुई थी।

जानिए बबीता की जिंदगी से जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें -

इस फिल्म से की किया था डेब्यू

बबीता हरि शिवदासानी
बबीता ने साल 1966 में आई फिल्म 'दस लाख' से अपने बॉलीवुड करियर की शुरुआत की थी। ये फिल्म बॉक्स ऑफिस पर सुपरहिट रही थी। हालांकि बबीता को सबसे ज्यादा पहचान साल 1967 में आई फिल्म 'राज' से मिली थी। इस फिल्म में उनके अपोजिट राजेश खन्ना नजर आए थे। बता दे बबीता ने अपने फिल्मी करियर में महज 19 फिल्मों में ही काम किया है।

कई यादगार फिल्मों में किया काम

बबीता हरि शिवदासानी
एक समय में बबीता बॉलीवुड की सबसे खूबसूरत, लोकप्रिय और सफल एक्ट्रेस बन गई थी। जिसके बाद बबीता ने बॉलीवुड की कई यादगार फिल्मों में काम किया। जिनमें 'पहचान', 'कब क्यूं और कहां' 'हसीना मान जाएगी', 'अनजाना', 'किस्मत' और तुमसे अच्छा कौन है जैसी फिल्में शामिल है। इन फिल्मों के जरिए बबीता ने बॉलीवुड में खूब नाम कमाया और अपना एक अलग मुकाम बनाया।

रणधीर कपूर से प्यार कर बैठी थी बबीता

साल 1971 में आई फिल्म 'कल आज और कल' उनके बबीता के करियर की सबसे अहम फिल्मों में से एक है। इस फिल्म में उनके साथ रणधीर कपूर मुख्य किरदार में नजर आए थे। फिल्म की शूटिंग के दौरान बबीता और रणधीर एक दूसरे से प्यार कर बैठे थे। लेकिन जब दोनों के शादी के फैसले से दोनों के परिवार खुश नहीं थे। क्योंकि बबीता सिंधी परिवार से आती थी जबकि रणधीर पंजाबी थे।

रणधीर ने इस इस शर्त पर की बबीता से शादी

बबीता हरि शिवदासानी
बबीता से शादी के लिए रणधीर अपना घर छोड़ने के लिए भी तैयार हो गए थे। बबीता के कहने पर रणधीर ने अपने घरवालों से शादी की बात की। लेकिन उनके घरवाले इस शादी के राजी नहीं हुए। जिसके बाद रणधीर ने एक बार फिर से घरवालों को मनाने की कोशिश की। इस बार रणधीर के घरवालों ने कहा की रणधीर से शादी के बाद उन्हें फिल्मी करियर छोड़ना पड़ेगा। बबीता ने ये शर्त मान ली।

साल 1971 में दोनों ने की शादी

जिसके बाद बबीता और रणधीर ने साल 1971 शादी की थी। ये शादी बेहद साधारण तरिके से संपन्न हुई थी। शादी के बाद दोनों अपने परिवारवालों से अलग एक फ्लैट में रहने लगे। 1974 में करिश्मा और 1980 में करीना का जन्म हुआ। शर्त के मुताबिक बबीता ने तो फिल्मों में काम करना बंद कर दिया था। लेकिन वे अपनी दोनों बेटियों को बड़ी एक्ट्रेस बनाना चाहती थी।

इस वजह से आया अलगाव

बबीता हरि शिवदासानी
रणधीर अपनी बेटियों को फिल्मों में नहीं लाना चाहते थे। लेकिन बबीता ने रणधीर की एक नहीं मानी। जब करिश्मा ने बॉलीवुड में काम करना शुरू किया तो रणधीर और बबीता के बीच अलगाव पैदा हो गया। यही वजह रही की बबीता ने रणधीर का घर छोड़ दिया और अपनी दोनों बेटियों के साथ अलग रहने लगी। बाद में बबीता ने अपना पूरा ध्यान बेटियों के करियर को बनाने में लगाया।

19 साल तक रही पति से दूर

बबीता और रणधीर की बड़ी बेटी करिश्मा ने साल 1991 बॉलीवुड डेब्यू किया था। करिश्मा कपूर खानदान की पहली ऐसी एक्ट्रेस थी जिसने बॉलीवुड में करियर बनाया था। बबीता अपने पति रणधीर से 19 साल तक दूर रही थी। हालांकि साल 2007 के बाद इन दोनों के बीच की दूरियां कम हो गई थी। अब अक्सर ये दोनों साथ में देखें जाते है।

यह भी पढ़ें -

पहला किसिंग सीन देने के बाद खूब रोई थी यह एक्ट्रेस, 5 मिनट तक किस करता रहा एक्टर


कई ऐसी फिल्में है जिनमें फिल्माए गए किसिंग सीन के पीछे अलग-अलग कहानियां है। कई बार ऐसा होता है, जब किसिंग सीन देते हुए कलाकार डायरेक्टर के कट बोलने के बाद भी नही रुकते है, लेकिन आज हम आपको एक ऐसी एक्ट्रेस के बारे मे बताएंगे, जिसकी जिंदगी पहला किसिंग उसके लिए रुलाने वाला रहा, और उस वक्त इस एक्ट्रेस की उम्र सिर्फ 15 साल थी।

रेखा बॉलीवुड के गुजरे जमाने की मशहूर अभिनेत्री रह चुकी है। इनका बॉलीवुड करियर बहुत सफल रहा है। सफल करियर के साथ इनकी रियल लाइफ भी कॉन्ट्रोवर्शियल रही है। यासिर उस्मान द्वारा रेखा की जिंदगी पर लिखी गई किताब 'रेखा: द अनटोल्ड स्टोरी' मे उनकी जिंदगी कई पहलुओं पर रोशनी डाली गई है।

इसी किताब मे रेखा के पहले किस सीन के बारे मे भी बताया गया है, जो उन्होने 15 साल की उम्र मे दिया था। यह बात साल 1969 की फिल्म 'अनजाना सफर' के समय की है। फिल्म की शूटिंग महबूब स्टूडियो मुंबई मे चल रही थी। उस दिन रेखा और एक्टर विश्वजीत के बीच एक किसिंग सीन फिल्माया जाने वाला था, जिसकी जानकारी रेखा को नही दी गई थी।

फिल्म के डायरेक्टर राजा नवाथे के एक्शन बोलते ही विश्वजीत ने रेखा को अपनी बाहों मे भरकर किस करना शुरु कर दिया, जिससे रेखा अवाक रह गई। विश्वजीत पूरे 5 मिनट तक रेखा को किस करते रहे। इस दौरान वहां मौजूद लोग तालियां बजाकर चीयर कर रहे थे। रेखा की आंखे बंद थी, लेकिन उनकी आंखों से निकलते आंसू साफ दिखाई दे रहे थे। विश्वजीत की बाहों से छूटने के बाद रेखा घंटों तक रोती रही। उस वक्त उनकी उम्र सिर्फ 15 साल थी। इस किसिंग सीन पर सफाई देते हुए विश्वजीत ने कहा था, कि इसमें उनकी कोई गलती नही है। यह एंजॉयमेंट के लिए नही था, बल्कि फिल्म के लिए जरूरी था।

यह भी पढ़ें -


इन 5 चीजों में अंडे और मांस से भी ज्यादा ताकत होती है - No.5 आपको रोज़ खानी चाहिए